शुक्रवार, 25 अक्तूबर 2019

लघुकथा :उलझे तार

लघुकथा :उलझे तार

मैसेज की आवाज़ पर फोन उठा लिया उसने । देखा तो खुद को तारणहार बतानेवाली का मैसेज चमक रहा था ,"देखिये ये चित्र खास आप के लिये है ,अभी बनवाया है आपको ही दर्शाता हुआ ।"

वो इस तरह के मिथ्यारोपण से त्रस्त हो गयी थी ,तब भी हँस पड़ी ,"आपने बनवाया ... यह तो कई दिनों से बहुत सारे ग्रुप्स में घूम रहा है । कोई न शायद आप पहले दिखाना भूल गयी होंगी । "

"जानती हैं सबके दिल - दिमाग में आपको तथाकथित रूप से जाले लगे ही दिखते हैं परन्तु आप उस को साफ कर कैसे पायेंगी । अपने जिस दिमाग को आप वैक्यूम क्लीनर समझ रही हैं ,उसके तारों को अहंकार ने उलझा रखा है । अहंकार के उलझे तारों को सुलझाने के लिये इसका रुख आपको खुद अपनी तरफ भी मोड़ना होगा न । विचित्र लग रहा है समस्या और समाधान दोनों को इस तरह उलझा लिया है कि अब ऊपरवाला ही कुछ करे तो करे ... ॐ शांति शांति ...  "मैसेज भेज कर उसने फोन स्विच - ऑफ कर दिया ।

उलझे तारों को सुलझाना कह लो या दिल - दिमाग के तथाकथित जालों की सफाई ऊपरवाले से बड़ा कलाकार कोई नहीं है ।
           ..... निवेदिता श्रीवास्तव "निवी"

3 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२६ -१०-२०१९ ) को "आओ एक दीप जलाएं " ( चर्चा अंक - ३५०० ) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं

  2. जय मां हाटेशवरी.......
    आप सभी को पावन दिवाली की शुभकामनाएं.....

    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    27/10/2019 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं