सोमवार, 19 अक्तूबर 2020

लघुकथा : आहट नन्हे कदमों की

लघुकथा : आहट नन्हे कदमों की

कल तक जो नन्हे कदम खूब जोर लगा कर बस करवट बदल पाते थे या थोड़ा सा खिसक ही पाते थे ,आज ढोलक की थाप पर नन्ही गौरैया जैसे मनमस्त से खूब थिरक रहे थे और घर में जमा हुई रिश्तेदार महिलाएं उस की खुशी से चमकते चेहरे को देख दिल को कचोटती टीस को सप्रयास दबा कर ,उस की चंचलता पर न्यौछावर हो रही थीं । तभी कपड़ों के ढ़ेर लिये फेरी लगनेवाले काकू सा आँगन में आ विराजे । सभी बहुएं और बेटियाँ उनके खुलते हुए गट्ठर के रंग - बिरंगे खजाने को देखती बेसब्री में घेर कर खड़ी हो गईं थीं ।


छुटके कदम भाग चले थे रसोई में काम करती माँ को खींचने ,"चलो न माँ ... हर समय काम करती रहती हो और यही सफेद सी साड़ी पहनी रहती हो । पता है कपड़े वाले दद्दू बहुत सारी रंग - बिरंगी चुनर लाये हैं । ये जो सबसे सुन्दर थी न , मैं तुम्हारे लिए ले कर भाग आयी हूँ । अब तुम जल्दी से इसको पहनो ।"


नम आँखों से माँ ने उसको रोका ,"लाडो ! इसको वापस कर आ । मैं इसको नहीं पहन सकती ।" 


उसकी आँखों में प्रश्नों के जुगनू झिलमिला रहे थे ,"क्यों माँ ...  ऐसा क्या हुआ है ?"


उधर से गुजरते हुए दद्दू ने अपनी आँखें पोंछते हुए उसको गोद में भर लिया ,"माँ को ऐसे परेशान नहीं करते लाडो ... अभी तुम नहीं समझोगी पर ये समाज के नियम हमें मजबूर करते हैं ऐसा करने को । तेरी माँ की स्थिति तो मैं नहीं सुधार सकता ,पर तुझ पर कोई आँच नहीं आने दूंगा । तेरी राह के काँटे तो मैं अपनी पलकों से भी हटा दूंगा । तेरी राह में तो मेरी हथेली बिछी रहेगी कि तुझको कुछ न चुभे ।" 


चन्द पलों में ही जैसे वो नन्हे कदम बड़े हो गए और वो दद्दू की गोद से उतर गई ,"नहीं दद्दू ! मुझे आपकी हथेलियों की सुरक्षा नहीं चाहिए क्योंकि जब कोई ऐसी सामाजिक मजबूरी आ जायेगी तब आप भी विवश हो कर अपना सुरक्षा घेरा तोड़ देंगे । अब मुझको पढ़ाई कर के इतना सशक्त होना है कि अपने साथ ही अपनी माँ और उन जैसी विवश स्त्रियों के लिए मैं हथेली बन जाऊँ ।" 

                                   ... निवेदिता श्रीवास्तव "निवी'

रविवार, 18 अक्तूबर 2020

नवगीत : विधना बैठी राम झरोखे


विधना बैठी राम झरोखे 

हँसती यूँ ही हलके- हलके 


नव पल्लव खिलता देख - देख

थिरक उठी अल्हण अमराई

रौद्र रूप ले कर रवि बैठा

रो पड़ी मेरी अंगनाई

रोता अम्बर अँखियाँ मूंदे

अश्रु बहा रही चुपके - चुपके !


महावर अरु हिना थी संगी

थिरक - थिरक पायल खनकाई

चूनर ओढ़े थी सतरंगी

कालिमा अभी कैसी छाई

काल रंग बदल छल रहा है

ले गया खुशियाँ वो छल के !


बिलख रही साँसें अब मेरी

रो रहा मन हो कर अब विह्वल

उतर गया सिंगार जिसका

ये बुलबुल है मेरी घायल

अंतस में भर लूंगी उसको 

भोले आओ तुम तो चल के !

         ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

शनिवार, 17 अक्तूबर 2020

लघुकथा : लौ चिंगारी की



धूप दिखते ही , दिवी छत पर कपड़े सुखाने आयी ही थी कि उसकी निगाह सड़क की तरफ गयी । स्कूल यूनिफॉर्म में एक कम उम्र की बच्ची डरी - सहमी सी बार - बार पीछे देखती चली आ रही थी । उसकी कच्ची उम्र और डर से सशंकित दिवी ने छत से ही उसको आवाज़ लगाई ,"क्या बात है ? इतनी परेशान और डरी हुई क्यों हो ? "


उसकी बात पर अपनी उखड़ी साँसों को थामने का प्रयास करती बच्ची ने जवाब देना ही चाहा था कि ,पास आती ऑटो की आवाज़ से घबरा कर वह भागती हुई दिवी के घर के सामने तक आ गयी ,"आंटी ,मैं इस ऑटो पर स्कूल जाने के लिये बैठी थी परन्तु ये अजीब सी बातें करने लगा और ऑटो रोक भी नहीं रहा था । अभी ट्रैफिक की वजह से धीमा हुआ तो मैं उतर गई ,पर ये अभी भी पीछे ही लगा है ।"


तब तक ऑटोवाला भी वहाँ रुक कर उस बच्ची का हाथ पकड़ खींचने का प्रयास करने लगा । दिवी पर जैसे शक्तिरूपा माँ चण्डी आ गयी हों ,उसने छत से एक गमला उठा कर ऑटोवाले पर फेंका और चीख पड़ी ,"घबराना बिल्कुल नहीं । वो ईंटा उठा कर मार इसको ,मैं आई ।"


ऑटोवाला गमले के प्रहार से लड़खड़ा गया और उसको आते देख वहाँ से भागता बना । हाथ में हॉकी स्टिक थामे दिवी ने नीचे आ कर बच्ची को साहस बंधाया और कहा ,"किसी दूसरे से उम्मीद बाद में करो ,पहले खुद ही विरोध करना सीखो। हर जगह कोई मिले जरूरी नहीं है ,पर हाँ ! हर जगह तुम खुद को अपने साथ हमेशा पाओगी ।"


दिवी उस बच्ची को हाथ में ईंट थामे दृढ़ कदमों से आगे बढ़ता देखती रही ,मानो एक चिंगारी खिल उठी हो ।

                             ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

बुधवार, 14 अक्तूबर 2020

बदलती चाहत ....

 सुनो साथी !

फूल लाने जा रहे हो न 

हतप्रभ मत होना   

पर सुन जरूर लेना

फूल गुलाब के नहीं 

सिर्फ हरसिंगार के ही लाना 

और चुन - चुन कर लाना ! 


हाँ ! बहुत पसन्द है मुझे 

रंग बिरंगे फूल गुलाब के

उस की हर पत्ती में

दम भरती ,झाँकती

सपनीली सुगन्ध

कोमल एहसासों जैसे उसके रंग

पर तुम लाना हरसिंगार

हतप्रभ मत हो जाओ

पूछ ही लो कारण !


जानना चाहते हो कारण

इस बदलती पसन्द का

तो सुनो साथी !

ये जो काँटे हैं न गुलाब के 

चुभन दे सकते हैं 

तुम्हारी इन नम्र नाजुक

सहलाती दुलराती हथेलियों को ।


और भी एक कारण है

बदलती चाहत का 

पास आओ तो बताऊँ 

हरसिंगार लाने को 

जब चुनोगे एक - एक फूल को 

हर उठाते फूल में 

याद करोगे मुझको 

और समझ भी लोगे कि 

फूल उठाने और चुनने दोनों के लिये ही 

झुकना ही पड़ता है 

और तुम सीख लोगे झुकना !

        ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

लघुकथा : हिसाब



"ओफ्फो क्या करती हो ? बर्तन माँजते समय ध्यान कहाँ रहता है तुम्हारा ? इस तरह से रोज प्लेटें टूटती रहेंगी तो कैसे काम चलेगा ," कहती वसुधा रसोई में आई तो देखा कि रेखा सिर झुकाए सहमी सी खड़ी थी । वह उससे कुछ बोलती उसके पहले ही उसकी निगाह बालकनी के कोने में खड़े रसोइये रामू पर पड़ गयी ,जो सशंकित निगाहों से इधर - उधर देखता हुआ चुपके - चुपके रसोई में उसकी और रेखा की बातें सुनने का प्रयास कर रहा था । 


"रेखा ! ध्यान दे कर आराम से काम करो ,"बोलती हुई बालकनी का दरवाज़ा बन्द करती हुई ,सामने ही लॉबी में आ कर बैठ गयी और रामू का हिसाब जोड़ने लगी । 

                                   ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2020

ज़िंदगी



ज़िन्दगी तू इतनी ग़मज़दा सी क्यों है ,

आ ये चुराये लम्हात तुझ पर वार दूँ ।


तबस्सुम जो सजे तेरे मासूम लबों पर ,

चुभते वक़्त पे यादों का मरहम लगा दूँ ।


तेरे साथ की फाकाकशी करते ये लम्हे ,

दिलकश सितारों से तुझ को सजा दूँ ।


वो आफ़ताब आग बरसाता है हर सू ,

आ अपने इस हसीं महताब से मिला दूँ ।


मेरे ख़यालों की भटकती रूह सी 'निवी' ,

आ तेरे ख़्वाबों की ख्वाहिशों से मिला दूँ ।

            ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

डर ज़िंदगी के



डर एक ऐसा शब्द या भाव है जो अपनी जगह बहुत जल्दी और बहुत पक्की बना लेता है ,जिससे उबरना असंभव तो नहीं परन्तु कठिन अवश्य होता है । 


डर का मूल कारण मोह होता है ... मोह जो होता अपनेआप से और अपनों के संग बंधे मोह तंतु से । जन्म लेते ही शिशु रोता है और रौशनी से चौंक कर आँखें मिचमिचाता है क्योंकि उसको माँ के गर्भ की सुरक्षित दुनिया से एकदम अलग नई दुनिया मिलती है ,जहाँ सब कुछ सर्वथा अनजाना रहता है । फिर तो उम्र भर ज़िंदगी कदम - कदम पर कभी ठोकर देती तो कभी दुलरा कर अपने रंग से उसको परिचित कराती रहती है । 


अपनों की सुरक्षा और उन्नति की चाहत लिये हम सतत प्रयत्नशील रहते हैं और इस राह में उन के सामने आने वाली कठिनाइयों के बारे में सोच - सोच कर डरते रहते हैं । कभी - कभी तो मुझे लगता है कि मंगल की कामना करने के साथ ही अमंगल भी दिखने लगता है ,जिससे बचाने के प्रयास में हम अपनी आस्थानुसार विभिन्न धार्मिक कर्मकांड भी करने लगते हैं । अंधविश्वासी न भी हों ,तब भी कई काम यही सोच के कर जाते हैं कि उस से किसी का नुकसान भी तो नहीं हो रहा है । 


अक्सर सोचती हूँ कि थोड़ा सा डरना भी बहुत आवश्यक है । यही डर हमको सचेत रखता है आनेवाले खतरों से ,जिसके परिणामस्वरूप ही गलतियाँ करने बच जाते हैं । आत्मघाती निर्णय लेने से यही डर ही हमको बचाता है क्योंकि हम यह कल्पना करते हैं कि हमारे अपनों पर उस काम का प्रभाव भी पड़ेगा । 


ज़िंदगी हमको इस डर की आँखों में आँखें डाल कर उसके सम्मुख खड़े होना भी सिखाती है ,जो बहुत जरूरी भी है । समाज मे विचरण करते पाशविक मनोवृत्ति वाले लोगों से डर कर ,घरों में ही छुप कर नहीं बैठा जा सकता है । आवश्यकता सिर्फ इतनी है कि डर की भावना को चेतावनी समझें बन्धन नहीं । 


प्रत्येक पल डर के साये में जीना स्वयं में भी मानसिक विकृतियों को जन्म दे देगा ,जो न स्वयं के हित में होगा और न ही समाज के । बस इसीलिये सहअस्तित्व के भाव से डर की सत्ता को स्वीकृति अवश्य दें परन्तु उसको अपने दिल - दिमाग में घर न बसाने दें ।

                                      ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

सोमवार, 5 अक्तूबर 2020

नाजुक सा वो ख़्वाब ....

 ढ़लते चाँद के संग 

पुरसोज़ नज़्म की मानिंद

एक ख़्वाब ने दी है

बड़ी ही नामालूम सी दस्तक

और बस इतना ही पूछा

भर लो मुझको आँखों में

सजा दूँ तेरी यादों का दामन 

या तलाशूं कोई दूजा माहताब

आँखों की चिलमन बरबस

यूँ ही सी बेपरवाह छलक उठी

और नाजुक सा वो ख़्वाब 

पैबस्त हो गया दिल की नमी में !

      ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'


शनिवार, 3 अक्तूबर 2020

लघुकथा : एक संवाद कुछ यूँ ही सा

 लघुकथा : एक संवाद कुछ यूँ ही सा 


पार्क में चबूतरे पर खड़े - खड़े थक जाने पर गांधी जी ने सोचा कि किसी के भी सुबह की सैर पर आने से पहले थोड़ा टहल लिया जाये । अब इस उम्र में एक जगह पर खड़े - खड़े हाथ पैर भी तो अकड़ जाते हैं । लाठी पकड़े टहलने को उद्द्यत हुए ही थे कि किसी को आते देख ठिठक कर अपनी मूर्तिवाली पुरावस्था में पहुँचने ही वाले थे कि किलक पड़े ,"अरे शास्त्री तुम यहाँ क्या कर रहे हो ? "


शास्त्री जी ," क्या करूँ बापू मेरे लिये बहुत कम चबूतरे रखे सबने । अब जगह की कमी जब ज्यादा ही शरीर टेढ़ा करने लगती है तो मैं ऐसे ही टहल कर शरीर की अकड़न दूर करने की कोशिश करता हूँ । हूँ भी तो इतना छोटा सा कि कोई देखता ही नहीं ।"


गाँधी जी ,"हम्म्म्म ... पर सोचा क्यों नहीं कभी कि ऐसा क्यों हुआ  ... कुछ तो मुझमें होगा जो तुममें नहीं है । "


शास्त्री जी ," सोचना क्या ,जबकि मैं कारण भी जानता हूँ ।"


गाँधी जी ,"कारण जानते हो ! बताओ क्या बात है ... किसी को कुछ कहना हो तो निःसंकोच बोलो मैं साथ में  चलता हूँ ,तुम्हारा काम हो जायेगा ।" 


शास्त्री जी ,"रहम बापू ... रहम ... आप तो रहने ही दो । "


गाँधी जी ,"ऐसे क्यों कह रहे हो ... तुम खुद ही सोचो और इतिहास के पन्ने पलट कर देखो कि  मेरे कहने भर से ही कितने काम हो गये हैं । "


शास्त्री जी ,"हाँ अंतर तो है हम दोनों में ,वो कोई छोटा सा अंतर नहीं अपितु बहुत बड़ा अंतर है । "


गाँधी जी ,"मतलब क्या है तुम्हारा ? "


शास्त्री जी , "आपके हाथ की छड़ी सबको दिख जाती है ,परन्तु मेरे जुड़े हुए हाथ दुर्बलता की निशानी समझ कर अनदेखे ही रह जाते हैं । आपकी मृत्यु पर भी आज तक सियासत और बहस होती है ,जबकि मेरा अंत तो आज भी रहस्य ही है ।"


गाँधी जी नजरें नीची किये कुछ सोचने लगे ,"परन्तु मेरे किसी भी काम का उद्देश्य यह तो नहीं ही था । "


"छोड़िये भी बापू ... आप भी क्या बातें ले कर बैठ गए हैं । आप तो अब और भी ताकतवर हो गये हैं । आप तो रंग - बिरंगे कागज़ के नोटों पर छप कर जेब मे पहुँच कर एकाध चीज़ों को छोड़ कर ,कुछ भी खरीदने की क्षमता बढ़ा देते हो ",शास्त्री जी आगे बढ़ने को उद्यत हुए । 


"पर तुम्हारा जय जवान जय किसान तो आज भी बोला जाता है ",गाँधी जी जल्दी से बोल पड़े । 


हाँ ! जिन्दा है वो नारा आज भी ,परन्तु सिर्फ बातों में ... आज का सच तो ये है कि एक सीमा पर मर कर शहीद कहलाता है और दूसरा गरीबी और भुखमरी से हार कर फन्दे में खुद को लटका देता है और यही है आज के जय जवान जय किसान का सच ",विवश आक्रोश में हताश से शास्त्री जी के क़दम आगे बढ़ते चले गये । 

                               ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2020

लघुकथा : वेंटिलेटर


लघुकथा : वेंटिलेटर 


सघन चिकित्सा - कक्ष से बाहर आ कर डॉक्टर ने कहा ," जयेश जी को वेंटिलेटर के सहारे साँसें भरते आज सातवाँ दिन हो गया है परन्तु उनमें सुधार के कुछ भी लक्षण नहीं दिख रहे हैं ।"


जयेश की पीड़ा से विक्षिप्त सी जया जैसे कुछ समझ ही नहीं पा रही हो ,"डॉक्टर साहब आप कहना क्या चाहते हैं  ? "


"देखिये सुनने में ये बात बहुत गलत भी लग सकती है ,परन्तु परिवार को मरीज की वस्तुस्थिति बताना हमारा कर्तव्य है । जयेश जी की जैसी स्थिति है ,उसमें कुछ उम्मीद नहीं लग रही है । अब ये तो दिन टालने जैसी बात है कि आप कृत्रिम साधनों से कब तक उनके शरीर को सुरक्षित रखते हैं । इसमें आपका धन तो जायेगा ही साथ ही साथ आपके स्वास्थ्य पर भी असर पड़ेगा ।"डॉक्टर ने अपनी बात स्पष्ट की ।


जया तड़प उठी ,"मतलब क्या है आपका ... मैं पैसों के लोभ के पीछे अपने जयेश की साँसें छीन लूँ !"


"नहीं जया जी ,शायद मैं अपनी बात आपको समझा नहीं पाया । देखिये यहाँ पर ऐसे मरीज आते हैं जिनको चिकित्सा की तुरन्त जरूरत होती है । ऐसी परिस्थिति में हमारा प्रयास रहता है कि उनको तुरन्त सभी सुविधाएं मिल सकें । "


डॉक्टर अभी बोल ही रहे थे कि जया ने टोका ,"आप कीजिये न आपको कौन रोक रहा है ।"


डॉक्टर ने जया की बात का उत्तर बहुत शान्ति से दिया ,"जयेश जी के प्रति आपका मोह स्वभाविक है ,परन्तु उनके मोह में आप उनको वेंटिलेटर से नहीं हटा रही हैं । बताइये दूसरे किसी मरीज को हम कैसे भर्ती करें । यदि आप जयेश जी को सदैव के लिये जीवित रखना चाहती हैं ,तो उनके अंगों को दान कर दीजिए । इससे कई लोगों को जीवन मिल जायेगा और उनकी प्रतिछवि बन कर जयेश जी को आप सदैव महसूस भी कर पायेंगी ।"


           .... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'