गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021

रहूँ तेरे साथ !!!



💐💐💐💐
बावरा मन पूछे कान्हा से
किस रूप रहूँ तेरे साथ !

मोर पंख बना ले कृष्णा
मुकुट संग सजूँ तेरे माथ ,
वैजयंती में सुगन्धि बन बसूँ
हॄद तेरे रच जाऊँ मेरे नाथ !

आलता बन पड़ जाऊँ पाँव
कंटक सारे चुन लूँ दीनानाथ ,
पीताम्बर बन अंग सज जाऊँ
रखना संग मुझे मेरे जगन्नाथ !

चल मुरली बना ले मनमोहना
सज्ज रहूँ तेरी कटि में या हाथ ,
बोली तीखी बोले न कभी मुझे
अधरों पर अपने सजा श्रीनाथ !

सुदर्शन चक्र बन कभी न पाऊँ
कैसे करूँगी किसी को अनाथ ,
बता न छलिया क्या बनाएगा
अन्तस ने कर लिया प्रमाथ !

बावरा मन बोले कान्हा से
रहना मुझको तेरे ही साथ ,
जिस विध चाहे रख मुझको
सदा रखना तू 'निवी' को साथ !
.... निवेदिता श्रीवास्तव '#निवी'

प्रमाथ : मन्थन