सोमवार, 17 जून 2019

मुक्तक

1
कलियाँ भी खिल पड़ी चमेली में
यूँ बचपना हँस पड़ा अठखेली में
नींव नेह की बड़ी गहरी रखी थी
मीठी यादें बरस रही हवेली में

2
लम्हों के काँच चुभ रहे हथेली में
जीवन बीता जा रहा पहेली में
साँसों के दरम्याँ बड़ा है फ़ासला
यादें भी बरस रही चंगेली में  .... निवेदिता

4 टिप्‍पणियां:

  1. साँसों के दरम्याँ बड़ा है फ़ासला
    यादें भी बरस रही चंगेली में ....वाह निवेदिता जी वाह

    जवाब देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 17/06/2019 की बुलेटिन, " नाम में क्या रखा है - ब्लॉग बुलेटिन“ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं