रविवार, 8 मार्च 2020

होली गीत : ए सखी आयो कन्हाई री ...


होली गीत

ए सखी आयो कन्हाई री ...

उड़त अबीर गुलाल
रंग भयो रतनार
पकड़ लयी कलाई री
ए सखी आयो कन्हाई री ....

बाजे झाल मृदंग
थिरक थिरक जाए अंग
झूम उठे अमराई री
ए सखी आयो कन्हाई री ...

भूल गए राग द्वेष
मिट चले सारे क्लेश
झूमे चंहु ओर पुरवाई री
ए सखी आयो कन्हाई री ...

चले प्रियतम संग
छलके मन मे रंग
चुनर लहर लहर उड़ जाई री
ए सखी आयो कन्हाई री ...

मन में छाए उमंग है
तन में बसे अनंग है
फागुन करे जबराई री
ए सखी आयो कन्हाई री ...
                ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात जी। बहुत सुन्दर रचना।
    होलीकोत्सव के साथ
    अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की भी बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (09-03-2020) को महके है मन में फुहार! (चर्चा अंक 3635)    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    होलीकोत्सव कीहार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं