सोमवार, 20 सितंबर 2021

जहाँ तेरा आशियाना है !

 तुझसे मिलने माँ !  

उस पार मुझे अब आना है , 

उस क्षितिज के पार  

जहाँ तेरा आशियाना है !  


अंगुली पकड़ चलना सिखलाया  

साध रखूँ कदमों को बतलाया  

सफर बीच हों कितने भी काँटे  

तेरा आशीष लगे हमसाया   

जीवन यात्रा में   

तेरी वीणा बन जाना है !  


पास नहीं पाती हूँ अब तुमको 

हर पल मैं खोज रही हूँ तुमको

थके - थके रहते नयना व्याकुल  

टेरते सदा रहते बस तुमको    

तेरी छाया बन  

चलते ही मुझको जाना है ! #निवी

   

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 21 सितम्बर 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. माँ का आशीर्वाद जीवन के साथ और बाद भी बना रहता है सदा अपने बच्चों पर
    मर्मस्पर्शी सामयिक रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. माँ का आशीर्वाद तो हमेशा साथ रहता । उस छोर पर भी सबको जाना है ।
    माँ को नमन।

    जवाब देंहटाएं
  4. पास नहीं पाती हूँ अब तुमको

    हर पल मैं खोज रही हूँ तुमको

    थके - थके रहते नयना व्याकुल

    टेरते सदा रहते बस तुमको

    तेरी छाया बन

    चलते ही मुझको जाना है... मां के लिए सुंदर समर्पण भावपूर्ण रचना । समय मिले तो मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है 🙏💐

    जवाब देंहटाएं