मंगलवार, 12 मई 2020

लघुकथा : केंचुल


लघुकथा : केंचुल


  • कार्यक्रम की सफलता को उत्सवित करते बातों में व्यस्त सब का ध्यान अचानक से ही अन्विता की तरफ गया । वरिष्ठ अधिकारी के साथ आरामदेह सोफे पर बैठी ऑफ़िस मिनिट्स के बारे में बात करते - करते ,अचानक ही वहाँ से उठ कर कोने के स्टूल पर बैठने में  लड़खड़ा गयी थी ।

"क्या हुआ ... क्या हुआ ..." ,बोलते सब उसकी तरफ लपके ।

अन्विता धीरे से उठती हुई बोली ,"कुछ खास नहीं बस इंसान में बसे साँप की केंचुल उतरने का अनुभव कर लिया ।"
           .... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (13-05-2020) को   "अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-3700)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --   
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं