शनिवार, 18 मई 2019

लघुकथा : अंगदान




आनिकेत : "क्या हुआ अन्विता ... अब क्या सोचने लगी ... ऑपरेशन बिल्कुल ठीक हो गया और तुम घर भी आ गयी हो ... डॉक्टर ने कहा है न कि तनाव बिल्कुल नहीं लेना है .. बताओ न क्या बात है ... "

अन्विता :"बस ये सोच रही हूँ कि जिसने दिल दान किया है मुझे ,वो कैसा होगा ... उसके घरवालों ने कितना साहस और धैर्य संजोया होगा ये सब करने में । और पता अनिकेत अब मेरे दिल मे एक संकल्प भी आ रहा है कि जिसने अपनी धड़कन देकर हमारे परिवार को कुछ और खुशी भरे पल दिये हैं ,उसके परिवार के लिये हमको  भी कुछ करना चाहिए । साथ ही साथ अंग दान के लिये सबको  जागरूक करना चाहिये । "
                            .... निवेदिता

8 टिप्‍पणियां:

  1. अंगदान के लिए खुद से ज्याद हमारे घरवालों को तैयार रहना चाहिए | आखिर में दान तो ज्यादातर उन्हें ही करना हैं |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रही हो ... पहले की अपेक्षा अब इस दिशा में संवेदनशीलता बढ़ गयी है और स्वीकार्यता भी ... स्नेह

      हटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 18/05/2019 की बुलेटिन, " मजबूत इरादों वाली अरुणा शानबाग जी को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर लघुकथा। इसी विषय पर मेरी पोस्ट https://www.jyotidehliwal.com/2017/04/Andhshraddha-chhodie-angdan-ya-dehdan-kijie.htmlजरूर पढ़िएगा।

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (20-05-2019) को "चलो केदार-बदरी" (चर्चा अंक- 3341) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं