मंगलवार, 24 अगस्त 2021

मेरी खामोश सी खामोशी !


सोचती हूँ मौन रहूँ 

शायद मेरे शब्दों से 

कहीं अधिक बोलती है 

मेरी खामोश सी खामोशी !


ये सब 

शायद कुछ ऐसा ही है 

जैसे गुलाब की सुगंध 

फूल में न होकर 

काँटों में से बरस रही हो !


जैसे 

ये सतरंगी से रंग

इन्द्रधनुष में नही 

आसमान के मन से ही 

रच - बस के छलके हों  !


जैसे 

ये नयनों की नदिया 

झरनों सी नही खिलखिलाती 

एक गुमसुम झील सी 

समेटे हैं अतल गहराइयों को ! #निवी

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 25 अगस्त 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26-08-2021को चर्चा – 4,168 में दिया गया है।
    आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद सहित
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  3. सही कहा मौन ऐसा ही है हृदयस्पर्शी सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं