शुक्रवार, 17 जून 2011

मुग्ध मन - प्राण


सुबह ने किरणें बिखराई  ,
महकती शाम निखर गयी 
रात जो लरजती सरकी ,
दिन ने थामी सुरीली कमान 
बस यूँ ही सोचते-सोचते ,
उम्र मेरी तमाम गयी ........
तलाशती रही अपनों को ,
जिनकी मुस्कराहट मेरी ,
साँसों को ऊर्जावान कर गयी !
अचानक लगी ठोकर ने ,
थामा थिरकते कदमों को ,
एक खुशबू ने उमगते  पूछा ,
कभी उन को देख भी थम जाओ ,
जिनके चेहरे पर खिलती स्मित ,
देख तुम्हारा मुग्ध मन-प्राण ........
                                          -निवेदिता 

22 टिप्‍पणियां:

  1. सच कहा…………कोमल भावो की सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. तलाशती रही अपनों को ,
    जिनकी मुस्कराहट मेरी ,
    साँसों को ऊर्जावान कर गयी !...yah talaash bani rahti hai

    जवाब देंहटाएं
  3. simply beautiful..
    pearl like words and awesome expressions !!!

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत कोमल भावों से भरी अच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. तलाशती रही अपनों को ,
    जिनकी मुस्कराहट मेरी ,
    साँसों को ऊर्जावान कर गयी !
    भावपूर्ण रचना , काश ! यह तलाश जल्दी पूरी हो !!

    जवाब देंहटाएं
  7. तलाशती रही अपनों को ,
    जिनकी मुस्कराहट मेरी
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना.
    कभी हमारे ब्लॉग पर भी विजिट करे
    vikasgarg23.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  8. सुन्दर पंक्तिया , अद्भुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  9. बस यूँ ही सोचते-सोचते ,
    उम्र मेरी तमाम गयी ....waah! bhut khubsurti panktiya...

    जवाब देंहटाएं
  10. एक खुशबू ने उमगते पूछा ,
    कभी उन को देख भी थम जाओ ,
    जिनके चेहरे पर खिलती स्मित ,
    देख तुम्हारा मुग्ध मन-प्राण ........
    भावनात्मक पोस्ट के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  11. भावनाओं का काव्य रूप
    बहुत ही आकर्षक बन पडा है
    अभिवादन.

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना... साधुवाद

    जवाब देंहटाएं