बुधवार, 5 दिसंबर 2012

" एकांत और अकेलापन "



एक सी लगती 
बातें हो या राहें 
कितनी अलग 
सी हो जाती हैं
एकांत कह लो 
या अकेलापन  
एक से लगते 
पर सच हैं ये 
सर्वथा भिन्न 
एक चाहत है 
दूजा त्रासदी ...
एक रखता 
सृजन क्षमता 
दूजे के पास 
भरी विरक्ति ...
एक की चाहत में 
बंद किये झरोखे 
दूजे से मुक्ति की 
आस लगाये 
टटोली कन्दराएँ !
                     -निवेदिता 

31 टिप्‍पणियां:

  1. सच है....
    एकांत मनचाहा और अकेलापन अनचाहा जो होता है....

    सस्नेह
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  2. सत्य कहती सुंदर अभिव्यक्ति ........
    शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  3. एक की चाहत में
    बंद किये झरोखे
    दूजे से मुक्ति की
    आस लगाये
    टटोली कन्दराएँ !
    बहुत खूब ... सच के साथ - साथ चलती हुई ये पंक्तियां भी

    जवाब देंहटाएं
  4. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन

    जवाब देंहटाएं
  5. एकांत सृजनात्मक हो सकता है ..... लेकिन अकेलापन ? इंसान को तोड़ देता है .... सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  6. एक की चाहत में
    बंद किये झरोखे
    दूजे से मुक्ति की
    आस लगाये
    टटोली कन्दराएँ !
    sach me shabd bol rahe....:)

    जवाब देंहटाएं
  7. एक अनकही कहानी अकेलेपन की ......बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  8. कुछ गुप्त गुम्फित से भाव -टटोली कंदराओं से अनावृत होते :-)

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह! बड़ी खूबसूरती से आपने अंतर परिभाषित किया है।

    जवाब देंहटाएं
  10. सच है सार्थक एवं सुंदर रचना...

    जवाब देंहटाएं

  11. बहुत सुंदर
    निवेदिता जी !

    एक चाहत है
    दूजा त्रासदी ...
    एक रखता
    सृजन क्षमता
    दूजे के पास
    भरी विरक्ति ...

    एकांत और अकेलेपन का बेहतरीन चित्रण !
    कमाल की संवेदनशीलता !
    वाऽह !

    शुभकामनाओं सहित…

    जवाब देंहटाएं
  12. सच है की दोनों में भाव अलग है ... कारण अलग है ...
    इसलिए सृजन भी अलग होता है ऐसे पलों का ...

    जवाब देंहटाएं