शनिवार, 17 दिसंबर 2011

बर्फीले एहसास !!!


अजीब से हैं
ये बर्फीले एहसास
इस रूह को भी
कंपकंपाते ..
साँसों को थामने 
बढ़ते दुआओं के
साए तले जज़्बात !
तुमने तो खुद को
छुपा ही लिया
ज़िन्दगी की
गर्माहट तले ,
फिर मुझे क्यों दी
बर्फीली चट्टान की
ठिठुरती शय्या !
चाय के प्याले से
उठती भाप के
गुनगुनी गुबार तले
औरों को आवाज़ दी
कड़क बर्फ लगाने को !
तुम तो गर्म दुशालों में
सिकुड़ ठंड भगाते रहे
मुझे बर्फ पे सुला
सिकुड़ने को मजबूर किया !
ये कैसे दुनियावी दस्तूर
मेरी निर्जीव शक्ल
औरों को दिखलाने को
मुझको ही विकृत बनाते रहे !
                              -निवेदिता 

34 टिप्‍पणियां:

  1. मन की संवेदनाओं के कपाट खोलती अच्छी प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  2. ये कैसे दुनियावी दस्तूर
    मेरी निर्जीव शक्ल
    औरों को दिखलाने को
    मुझको ही विकृत बनाते रहे !...bahut badhiya

    जवाब देंहटाएं
  3. ये कैसे दुनियावी दस्तूर
    मेरी निर्जीव शक्ल
    औरों को दिखलाने को
    मुझको ही विकृत बनाते रहे !...बेहतरीन भाव ...

    जवाब देंहटाएं
  4. आपका पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सटीक भावों की बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    जवाब देंहटाएं
  6. कुछ लोगों की संवेदना ही बर्फ़ीली हो जाती है।

    जवाब देंहटाएं
  7. तुम तो गर्म दुशालों में
    सिकुड़ ठंड भगाते रहे
    मुझे बर्फ पे सुला
    सिकुड़ने को मजबूर किया !
    ये कैसे दुनियावी दस्तूर
    मेरी निर्जीव शक्ल
    औरों को दिखलाने को
    मुझको ही विकृत बनाते रहे !waah bahut sahi sundar abhiwaykti ....

    जवाब देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  9. बर्फीले एहसास दुनियावी दस्तूर के तले दफन हो जाते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  10. ये कैसे दुनियावी दस्तूर
    मेरी निर्जीव शक्ल
    औरों को दिखलाने को
    मुझको ही विकृत बनाते रहे

    बहुत गहरी बात लिए पंक्तियाँ ..... सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
  11. तुमने तो खुद को
    छुपा ही लिया
    ज़िन्दगी की
    गर्माहट तले ,
    फिर मुझे क्यों दी
    बर्फीली चट्टान की
    ठिठुरती शय्या !
    Bahut achchha laga ye hissa.

    जवाब देंहटाएं
  12. so intense, deep and yeah cold expressions..
    great metaphors u used :)

    जवाब देंहटाएं
  13. जब रात बीतती है जग की,
    स्नेहिल धूप निकल आती,
    यह बर्फ व्यग्र तब पिघलेगी,
    भावों की गंगा निकलेगी।

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत कम शब्दों में गंभीर बात कहना / साथ ही एक दार्शनिक चिंतन भी कि निर्जीब शक्ल को औरों को दिखाने विकृत बनाते रहे / इसका एक अर्थ उस ओर भी लिया जा सकता है जब म्रत्यु उपरांत शब को कुछ अवधि तक सुरक्षित रखने वर्फ में रख दिया जाता है / दूसरे कोइ बहुत आराम में रहे और दूसरा कष्ट भोगता रहे उस कष्ट भोगने को भी वर्फ पर सुलाना कहा जा सकता है / वर्फीली चट्टान की शैया भी एक कष्ट को कहा जा सकता है / बहुत ही उत्तम रचना है

    जवाब देंहटाएं
  15. कल 19/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  16. निर्जीव शक्ल.. विकृत, बहुत बढ़िया..

    जवाब देंहटाएं
  17. एक संवेदनशील मन की व्यथा.. सुन्दर रचना...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  18. सुन्दर भाव गहरे अहसास लिए मनभावन कविता.....

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत खूब.....संवेदनशील रचना..

    जवाब देंहटाएं
  20. लगता है जैसे व्यथा ने व्यथा के लिये व्यथा से व्यथा की
    व्यथा लिखी हो। बार-बार पढ़ने को मन चाहता है। वाह
    कमाल, शब्द-शब्द में पीड़ा।

    जवाब देंहटाएं
  21. गहरी भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....

    जवाब देंहटाएं