सोमवार, 31 जनवरी 2011

" भाव तुम्हारे.........."

मन की छुअन को छूते
दुलराते सहज स्नेहिल
भाव तुम्हारे ...........
जीवन की ढलती दोपहरी में
छाया बन सहेजते
हर चुभन ................
कभी चांदनी कभी फुहार बन
लहराती  फगुनहट सी
इन्द्रधनुषी चमक ..........
पल-पल बहती जीवन नदिया
भंवर -किनारों से बचते -बचाते
आ पहुंची मंजिल तक ......
लो फिर याद आते
भाव तुम्हारे ................

10 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है निवेदीता जी........बहुत ही साहित्यीक और उत्कृष्ट रचना के लिए बधाई...........शुभकामनाएँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे....फागुन आ गया क्या....
    क्या बात है.....
    अच्छा सन्देश था....ये काम है कवियों का....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है, कितने प्यारे, भाव तुम्हारे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाकई ...इतनी अच्छी कविता बहुत दिनों बाद पढने को मिली.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत रचना...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही साहित्यीक और उत्कृष्ट रचना| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्साह्वर्धन के लिये आप सब विद्वजन का आभार .....

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर है भाव भरे शब्द तुम्हारे !

    उत्तर देंहटाएं