गुरुवार, 6 जनवरी 2011

हाँ , हूं मैं आज की नारी ....

हाँ , हूं मै आज की नारी ,
आवाज होते ही निकल आती हूं ,
सामना करने को
हर आहट का ,हर आघात का ,
बांटने को दूसरों का भार ,
पर मन ही मन ,
डरती भी हूं ...
पलट कर देखती भी हूं ,
पीछे आने वाले क़दमों को ,
कहीं उनके कुत्सित इरादों
के दायरों में मैं तो नहीं ,
अपनी पिछली पीढ़ी के
संस्कारों के साथ ,
कोशिश करती हूं
देने का साथ
अपनी नयी पीढी का ,
शायद इसीलिये
हाँ , हूं मैं आज की नारी  !

4 टिप्‍पणियां:

  1. सीमित शब्दों में बहुत ही खूबसूरती से आज की नारी को परिभाषित किया है.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहली बार आपको पढ़ा है !अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही है...अच्छा लगा...कुछ ऐसा ही कभी मैंने लिखने की कोशिश की थी.
    -मैं हूँ आज की नारी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं