गुरुवार, 13 जनवरी 2011

"दो बूंद ज़िन्दगी की "

सच तुम दोनों हो
दो बूंद हमारे जीवन की !
जिनसे जीवन खोजता
अर्थ नित नये - नये !
आज  सुख -सुकून
भरे ये पल मिले ,
इनका कारण ,
हो सिर्फ़ तुम दोनों !
तुम्हारा मान बढ़े ,
सम्मान मिले ..
 है यही  इक आस  !
हाँ ! हमारे लाडलों !
हो तुम हर सांस .....
हमारे जीवन की.........
राजन -रमन !
तुम हो
सुख - संकल्प
हमारे हर इक पल की !

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छे भाव और बहुत ही सुन्दर एहसास.
    भैय्या लोगों को इससे अच्छा आशीर्वाद और क्या हो सकता है.

    सादर
    --------
    आज कुछ धूप खिली है
    मकर-संक्रांति का महत्त्व

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही आशीष तुम्हारे लिये भी ...
    अनंत शुभ कामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल से निकली ये आवाज़ कभी जाया न जाएगी !
    दोनों लाडलों को बुलंदी तक ले के जाएगी !
    बहुत खुबसूरत एहसास !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति //अपने बच्चो पर
    मेरे ब्लॉग पर पढ़े .." मेरी सजनी "

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खुबसूरत एहसास !
    आपको और आपके परिवार को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !"

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनिमेष और अभिषेक (राजन और रमन)की मंगलकामना हेतु आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सबका आभार !
    आदरणीय विजय माथुर जी ब्लाँग पर आने के लिये धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं