शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

पत्र मुहावरों से भरा

 


ऐ #कलम_के_धनी मेरे मन !

अकसर ही तुमको बोल देती थी कि #तीन_पाँच_मत_करो और तुम जो बोलनेवाले होते थे उसको #गूंगे_के_गुड़ जैसा अनुभव करते #चुप्पी_साध_लेते थे और मेरे मन के बिखराव को अपने #अंक_में_समेट मुस्करा देते । मैं तो बहुत बाद में समझ पायी थी कि इस #रंग_बदलती_दुनिया में इस तरह #अक्ल_के_घोड़े_दौड़ाना या #अरण्य_रूदन करना व्यर्थ है क्योंकि सभी #अपनी_खिचड़ी_अलग_पकाना चाहते हैं । यह समझने में मुझे बहुत समय लग गया कि उनकी मुँहदेखी करती बातों के पीछे उनका मतलब सिर्फ #अपना_उल्लू_सीधा_करना ही था । मतलब निकल जाने के बाद उनकी #अंगारे_उगलती बातें सुन कर मेरी समझ तो जैसे #घास_चरने ही चली जाती थी ।


परन्तु जानते हो मैं भी बिलकुल #अड़ियल_टट्टू की तरह #अंगारों_पर_पैर_रखते_हुए ही फिर उनको समझाने का प्रयास करने लगती हूँ ... इस पूरी रस्साकशी में मुझे #अँगूठी_में_नगीने सरीखे साथी मिले ,जिन्होंने #अंधा_बनाने वालों के समक्ष मुझ #अल्लाह_मियाँ_की_गाय सरीखी कलम का साथ दे कर उनके लिये #अंगूर_खट्टे कर दिये । 


और पता है दोस्त ! इन चन्द नगीनों का साथ मेरा मनोबल इतना बढ़ा गया कि #अपने_अड्डे_पर_चहकने वाले #मुँह_की_खाने लगे और मैं #अपनी_खाल_में_मस्त रहने लगी । अब न जाने कितनी अठखेलियाँ सूझती हैं कि जब जहाँ का  #अन्न_जल_बदा_होगा वहीं हम #अर्श_से_फर्श तक का जीवन जियेंगे । #आग_पर_तेल_छिड़कने वाले लोगों से दूर हो उनका साथ ही करना चाहिये जिनकी प्रवृत्ति ही #आग_पर_पानी_डालने की हो ,बाकी #आँख_पर_पड़ा_पर्दा तो समय हटा ही देता है ।


अब तक के जीवन में इतना तो समझ ही गयी हूँ कि कितना भी #आटा_गीला हो जाये #आँखें_तरेरने वालों के न सोच कर #आकाश_पाताल एक कर सब कुछ #आँचल_में_बाँधना ही श्रेयस्कर है । #"आस्तीन में साँप" को पालना तो #"आग पानी को साथ" रखने जैसा ही है ,जो ध्यान न देने पर #"आठ - आठ आँसू" रोना पड़ता है ।


#"इधर -उधर की बात" करने से तो अच्छा है #"इतिश्री" करना ,क्योंकि #"इज्जत उतारना" तो सब जानते हैं ,परन्तु यह तो हमको ही बताना होगा कि #"इन तिलों में तेल" नहीं जिससे वो #"अपना उल्लू सीधा" कर सकेंगे ।


अब सोचती हूँ कि तुमसे ही #"दिल हल्का" कर लिया करूँगी और सुनो ! तुम #"ईद का चाँद" मत बन जाना । तुमसे बातें करते ही #"उन्नीस - बीस करती ज़िंदगी के #"काले बादल" न जाने कहाँ #"उड़नछू" हो जाते हैं । 


"राम - सलाम" करती रहना और मेरे मनोबल की रीति पड़ती "गागर में सागर" भर जाना ... तुम्हारी "किताबी कीड़ा" 'निवी'

मंगलवार, 15 सितंबर 2020

#अतिथि_एक_दिन_का ( हिंदी दिवस )



#अतिथि_एक_दिन_का ( हिंदी दिवस )


अच्छी भली सो रही थी और सपनों में ,पर्वतों के पार दूर कहीं क्षितिज पर सैर कर रही थी कि अचानक ही धीमे से तेज ... और भी तेज होती "खट - खट" की आवाज़ ने आराम करती हुई पलकों को जबरदस्ती खोल ही दिया । 


मैं भी किसी प्रकार उनींदी पलकों को खुला रखने का प्रयास करती सी दरवाज़े की तरफ बढ़ चली ,"कौन है भई  ? इतनी सुबह - सुबह किसी के घर कोई आता है क्या ? " 


दरवाज़े को खोलती मैं वहीं पड़ी कुरसी पर बैठ गयी ,"आ जा भई ,अब बैठ भी जा और अपना नाम ,काम सब बता ही दे ।" 


सामने बड़ी ही आकर्षक परन्तु प्रौढ़ छवि खड़ी दिखाई दे रही थी । अरे हाँ ! बड़ी ही मनमोहिनी मुस्कान भी छाई थी उस प्रभावित करते चेहरे पर ,"बैठती हूँ बेटे परन्तु तुम अपनी आँखें तो खोलो ... बन्द होती पलकों से तो तुम कुछ स्पष्ट देख भी नहीं पाओगी और न जाने कितने विचार आ कर मेरी छवि धूमिल कर ओझल कर देंगे ", अब उसकी हँसी थोड़ी और मुखर हो गयी । 


अब मैंने सप्रयास स्वयं को और भी चैतन्य किया और उस को और भी ध्यान से देखने लगी । उसके केशों की प्रत्येक लट अपने स्थान पर एकदम दुरुस्त थी , जैसे किसी ने उनको किसी क्रीम से व्यस्थित कर रखा हो । केशों को विभक्त करती माँग भी कितनी सीधी सी थी जैसे आप ,तुम ,तुम्हारा ,तू कौन सा शब्द किसको क्या बोलना है पहले से ही पता हो । उन्नत मस्तक गर्व से चमक रहा था परन्तु कहीं भी गुमान की झलक भी नहीं थी । आहा ! आँखें कितनी ममता से भरी ... जैसे पलकों की बाँहें फैला सबको अपने आँचल में ही समेट लेंगी । उसके अधर भी कितने सहज भाव से प्रत्येक भाषा ,ज़ुबान ,बोली ,लैंग्वेज सब बरसती फुहारों में अविरल स्रवित कर रहे थे ।


उसके व्यक्तित्व की गरिमा से प्रभावित हो कर स्वयं को संयत करती सी मैं अपने इस एक दिन के गरिमामयी अतिथि के स्वागत को ततपर हो उठी ,"आइये पहले आप यहाँ बैठिए तो ... चाय - कॉफी क्या पसंद करेंगी ... या फिर कुछ ठंडा लेंगी ... नाश्ता साथ में ही करते हैं ... "


वह विहँस पड़ीं,"अरे वाह ! एक दिन के अतिथि ,वह भी बिना बुलाया ... इतना सत्कार कर रही हो ! तुम सब तो कल खूब ठहाके लगा रहे थे कि पूरे साल जिसको भुलाये रखा ,सिर्फ एक दिन के लिये उसको याद क्या करना ... या जो ढ़ंग से बोल भी नहीं पाते ,वो क्यों कोई दिवस मना कर पर्व जैसी महत्ता दें ... फिर मेरी पसंद - नापसंद को इतना महत्व देना ,कुछ विचित्र नहीं लग रहा क्या ? "


मैं उनकी मित्र की तरह छेड़ने वाली बातों में उलझ कर फिर से उनके पास ही बैठ गयी ,"आप ऐसा क्यों कह रही हैं ... मैं तो आपसे आज पहली बार मिली हूँ ,आपका नाम तक नहीं जानती ,फिर मैं आपको कुछ भी गलत्त कैसे बोल सकती हूँ ... कल आप कब मिली थीं मुझसे ,मुझे तो कुछ भी याद नहीं आ रहा ।" 


"यही तो विद्रूप है कि मैं सदैव तुम्हारे साथ रहती हूँ, परन्तु तुम पहचानती ही नहीं हो । मैं #हिंदी हूँ ... कल ही तो तुमने मेरा दिवस - #हिंदी_दिवस  मनाया था और मजाक बनाया था कि जो साल भर कभी हिंदी नहीं बोलते उनको मुबारक ... जो उनहत्तर ,उन्यासी ,नवासी में अंतर नहीं समझते उनको #हिंदी_दिवस मुबारक ... । मेरी आज की स्थिति एक ही दिन में तो आयी नहीं है । जैसे एक - एक दिन कर के मेरा चलन कम हुआ है वैसे ही एक - एक दिन कर के ही मुझको मेरी पूर्वस्थिति वापस मिलेगी ",वह स्नेह से मेरे हाथों को सहलाती हुई उठ खड़ी हुई । 


अपने विचारों में उलझी मैंने जब सामने देखा ,तब वहाँ जाते हुए कदमों का एक धुंधला साया भर था । सम्भवतः मुझे उलझनों में घिरा देख मेरी पहचान मुझ से हाथ छुड़ा कर कहीं दूर जाने लगी थी । 


मैं एक दृढनिश्चय के साथ उठ खड़ी हुई और चल दी अपनी मातृभाषा के आँचल में हिंदी दिवस ,हिंदी सप्ताह और हिंदी पखवाड़े के सितारे टाँकने !

                                 ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

सोमवार, 14 सितंबर 2020

हिन्दी : दोहवलि

 हिन्दी हिन्दी सब  कहें ,सीखे नहीं विधान ।

स्वर व्यंजन भी याद हो ,मात्रा का रख ध्यान ।।


उच्चारण भी शुद्ध करो ,प्रवहमान तब जान ।

तत्सम तद्भव लो समझ ,त्रुटियों का ले ज्ञान ।।


अलग - अलग हर भाव के ,इसमें रखे निशान ।

कण्ठ तालु अरु हलक से ,बोलो समझ विधान ।।


नाम संबंध के अलग, रहती भिन्न पुकार ।

समझो इसकी महत्ता ,भाषा है संस्कार ।।


   ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

रविवार, 13 सितंबर 2020

मन बावरा है न ....

 मन बावरा है न 

आज चाँद बनने को मचल पड़ा

मानो माँ की उंगली थामे 

उचका था बचपन चाँद पकड़ने को !


चाँद बनना है पर वह

आसमान में चमकने वाला नहीं 

न ही पानी से भरे थाल में लहराता !


चाँद बनना है पर वही 

चातक की आँखों में चमकता आस बन 

शिशु की किलकारी में किलकता मामा बन !


 मेरे चाँद से मन को पाने के लिये

मत सजाना प्रयोगशाला 

नहीं खोजना गड्ढ़े मन की गहराई में !


बस जगा लेना सम्वेदनाओं को 

मेरा ये चाँद विहँस बस जायेगा

चमकता ही रहेगा तुम्हारे आनन पर !

              ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

सोमवार, 7 सितंबर 2020

लघुकथा (संवाद ) : दास्तान ए लेखनी और शमशीर ...

 दास्तान ए लेखनी और शमशीर ...


मेरे सामने तुम कुछ नहीं हो । तुमको तो चलने के पहले स्याही रूपी रक्त पीना पड़ता है ।


हाँ .. हाँ ... यदि मैं पहले रक्त पीती हूँ ,तब तुम भी तो बाद में रक्त ही तो पीती हो ।


तुमको तो इन्सान अंगुलियों के इशारे से नचाता रहता है ,जबकि मुझे चलाने में उसको पूरी ताक़त लगानी पड़ती है ।


मुझको चलाने के लिये वह बचपन से ही विधिवत शिक्षा भी लेता है और यदि तब नहीं सीख पाता तो उम्र के किसी भी पड़ाव पर सीखता है। तुम्हारी याद तो उसे तभी आती है ,जब वह इतना शक्तिशाली हो जाता है कि तुमको सम्हाल सके । 


बोल तो ऐसे रही हो जैसे तुम कोई बहुत तुर्रम खाँ हो ... 


हाँ ! हूँ मैं तुर्रम ख़ाँ 


कैसे ? 


अरे ! मुझे जानती नहीं हो ,जरा सा भी लहरा जाऊँ तो ख़ुदा को जुदा और अर्श को फ़र्श कर दूँ ... मेरे शब्दों में इतनी ताक़त है ।


हाँ ! मान गयी तुम मुझसे शक्तिशाली हो । मैं जब लहराती हूँ तब एक ही बार में जीवन ले लेती हूँ ,परन्तु तुम तो जिन्दा रहते हुए भी कई - कई बार मारती रहती हो । 

                                     ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

गुरुवार, 3 सितंबर 2020

रस्मे उल्फ़त

 आज की इस आपाधापी के दौर में 

कुछ यूँ रस्मे उल्फत चलो निभाते हैं


कुछ मैं करती हूँ कुछ तुम समेट लो

चलो कुछ यूँ अपने काम बाँट लेते हैं


नानाविध भोजन हम पका लाते हैं 

बर्तनों की निगहबानी तुम कर लो


झाड़ू डस्टिंग तो हम कर ही आएंगे 

पोछे की बाल्टी जानम तुम ले आओ


कहो तो सौंफ इलायची हम चख लेंगे 

तुम तो बस वो सौंफ़दानी उठा लाओ 


किधर चल दिये अब ऑफिस को तुम

जरा रुको लैपटॉप मैं ले कर आती हूँ


वक्त का पहिया चल पड़ा उल्टी चाल

दो से चार हुए अब चार से फिर दो हुए


ई सी जी के रिपोर्ट सी  देखती चेहरा

कभी कुछ शब्द भी तुम  लुटा जाओ 


बीतती जा रही अनमोल ये ज़िंदगी

बाद में तुम भी याद कर पछताओगे


कितने लम्हों को थामे ये 'निवी' खड़ी

दो चार लम्हे तुम भी कभी खोज लाओ 

       .... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

बुधवार, 2 सितंबर 2020

लघुकथा ( संवाद ) : कनिष्ठा


सुनो 

हूँ

बहुत सोचा पर एक बात समझ ही नहीं आ रही😞

क्या 

अधिकतर लोगों को देखा है कि वो तीन उंगलियों में ,यहाँ तक कि अंगूठे में भी अंगूठी पहन लेते हैं ,परन्तु सबसे छोटी उंगली को खाली ही छोड़ देते हैं । 

हा ... हा ... सही कह रहे हो 

अरे हँसती जा रही हो ,कारण भी तो बताओ 

हा ... हा ... अरे सबसे छोटी होती है न किसीका ध्यान ही नहीं जायेगा इसीलिये ... 

मजाक मत करो सच - सच बताओ न ,तुम क्या सोच रही हो 

अच्छा ये बताओ ,हम कहीं जाते हैं तो तुम मेरी छोटी उंगली ,मतलब कनिष्ठा क्यों पकड़ लेते हो 

अरे वो तो किसी का ध्यान न जाये कि हमने एक दूजे को थाम रखा है ,बस इसीलिये ... 

अब समझे तर्जनी पकड़ाते हैं किसी को सहारे का आभास हो इसलिये ...

हद्द हो यार तुम ,मैं बात करूंगा आम तुम बोलोगी इमली ... 

सुनो तो ... कनिष्ठा प्रतीक है प्रेम का ...

प्रेम का ? 

हाँ ! हम जिसके प्रेम में होते हैं उसकी हर छोटी से छोटी बात भी महत्व रखती है ...

वो तो ठीक है परन्तु कनिष्ठा को आभूषण विहीन क्यों रखना ?

क्योंकि जब दो प्रेमी अपने होने का एहसास करते हैं तब वो कनिष्ठा पकड़ते हैं क्योंकि रस्सी का सबसे छोटा सिरा पकड़ लो तो दूरी खुद नहीं बचती । पकड़ में मजबूती नहीं होती पर विश्वास होता है । अब इस छुवन में आभूषण बैरी का क्या काम ... हा ... हा ...

तुम भी न बस तुम हो 💖💖

                ... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

गीत : प्रणय की बेला

 देख रही मैं सपन अनोखे ,

आ पहुँची प्रिय प्रणय की बेला !


निशा भोर की गैल चली है

तारों ने तब घूँघट खोला ,

मन्द समीर उड़ाये अंचल

रश्मि किरण का मन है डोला ,

पागल मन हो जाता विह्वल

रोज सजाता जीवन मेला !


माया में मन भटक रहा है

पल - पल करता जीवन बीता ,

अनसुलझी लट खोल रहा है

जीवन का हर घट है रीता ,

अंत समय जब लेने आया

मन फिर से हो गया अकेला !


बन्द नयन वह खोल रहा है

सच जीवन का वह बतलाता ,

तेरा - मेरा झूठा नाता

रह रह कर वह है समझाता ,

विहग तो उड़ जाये अकेला

लोभ सजाये मन का तबेला !

   .... निवेदिता श्रीवास्तव 'निवी'