शुक्रवार, 21 जनवरी 2011

जीवन की आपाधापी में........

जीवन की आपाधापी में
जीवन के ताने बाने में ,
मैं प्यार निभाती ही रही
प्यार दिखा न पाई  !
दायित्वों के तले
कर्म करती ही रही , 
मुस्कान बिखेरती ही रही
मुस्करा न सकी !
तुम को सुलाने में 
 ख़ुद मैं कभी  सो न पाई,
तुम्हे लिख़ना सिखाने में
ख़ुद लिखना भूल गई!
अब इस सान्ध्यकाल जो देख़ा ,
कुछ भी न मैंने ख़ोया है !
देख़ मेरे चेहरे की हल्की शिकन ,
तुम भूल जाते हो मुस्कराना
मेरे हल्की सी लड़खड़ाहट पर ,
दौड़ आते हो थामने मुझ को
मेरे आवाज़ की उदासी ,
कैसे महसूस कर जाते हो 
कैसे कहूँ मैंने कुछ ख़ोया ,
सारा जग तुमने तो दे डाला
ये सुक़ून भरी नींद  ,
उन जागी रातों पर वारी हैं 
मेरे चाँद -सूरज ,
मेरी दुनिया के सितारों
तुम्हारी मीठी रौशनी ,
सच यही तो मेरे मन-आंगन
में महकती-खिलखिलाती चमक है !

9 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. शीर्षक को सार्थक करती दिल को छू लेने वाली कविता.

    सादर
    -------
    मैं नेता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को छू लेने वाली कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ईश्वर से प्रार्थना है बस ऐसे ही हमारे चांद-सूरज सारे जहां को रोशन करते रहें ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर लिखा है |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी कविता से प्रेरित पंक्तियाँ।

    प्यार निभाना सबको आया, प्यार दिखा न पाया कोई,
    सम्बन्धों के नाम पे मैंने, कर्तव्यों की गठरी ढोई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय आशा दी और आप सबका आभार !

    उत्तर देंहटाएं