शुक्रवार, 28 अक्तूबर 2016

लाडलों का प्यार .....




चाहतें भी कैसी कैसी 
साँसे लेती रहती हैं 
बताओ न अब 
बाँटना चाहती हैं 
अपने जीवन की 
अनबोली सी वजह
अपने लाडलों का प्यार .....
चाहतों में हलचल मची
ये बाँटना तो कभी नहीं है
चाहत है मिले लाडलों को
दुगना प्यार अपरम्पार

हमारा भी और ........ निवेदिता