शनिवार, 22 जून 2019

गीत : उम्र गुजरती है सपनों की तुरपाई में

गीत

उम्र गुजरती है सपनो की तुरपाई में ।
हर रेशा जोड़ा रिश्तों की सरमाई में ।।


तन्हा तन्हा मन बेबस सा छलकता रहा
जीवन नवरस से अनमना सा बरसता रहा ।
बिसरी बातों से जीवन कलश भी दरक रहा
साँसे भरता रहा रिश्तों की भरपाई में ।।
उम्र गुजरती है सपनों की तुरपाई में ...


बचपन किलक किलक कर कदम बहकाता रहा
बुढापा यौवन की भी याद दिलाता रहा ।
पगला मन यादों की धार बरसाता रहा
दिल बेबस सा डरता रहा जग हँसाई में ।।
उम्र गुजरती है सपनों की तुरपाई में ...


नव कलिका भी थिरक थिरक कर सुरभित हुई
डोली मैके की गलियाँ रोता छोड़ चली ।
लोभी दुल्हन को तड़पा कर जलाता रहा
मन यूँ भी कलप रहा खुदा की खुदाई में ।।
उम्र गुजरती है सपनों की तुरपाई में ... निवेदिता