मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

.........शब्द है छोटा .....

अरे ........क्या ..........
ये है, तुम्हारी .......
...........भावना .......
शब्द ?......हां......
सच ....
शब्द ही तो है  .....
....बहुत छोटा ...
पर..... कामना बड़ी ....
शायद .....तुम्हे .....
छोटापन ....ही....
 है भाता ...
शब्द को तो करते ही रहे
याद ....पर .......
भूल गए  ......
क्या ...
इसके अहसासात !
हां ,मानती हू ....
गल्ती ...
मेरी ही थी 
तुम्हारे लिए तो.........फूल...
हां बनना तो चाहा 
फूल ही 
पर ......
तुम्हे तो भाता........
काटों का ही ........
साथ ..........................

12 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों की ऐसी लड़ी बनाइ आपने.....बहुत अच्छा लगा...।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत अहसासो को सजोया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्द छोटा लेकिन शब्द का मर्म बहुत बड़ा होता है ...आपकी कविता में यह बात पूरी तरह से झलकती है ...आपका शुक्रिया मेरे ब्लॉग पर आने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  5. छोटे शब्दों की कड़ी जुड़ के कविता बन गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी को काटों का साथ अच्छा लगे तो उसमें पुष्प का क्या कसूर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरती से लिखा है ..सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं