बुधवार, 2 फ़रवरी 2011

........... "रक्त -रंजित युवा "........

रक्त-रंजित  युवा 
ये किसका लहू ,
बह रहा चंहु और है 
किसी का सिर ,
तो किसी के पांव हैं 
ये किसने थाम रखी,
एक दूजे की बांह है 
ये किसके घर  के चिराग  
ये किसके सिर की छांव हैं 
पास जा के देख तो लो ,
ये हमारे ही नौनिहाल हैं 
कितने बहानों से निकाला ,
माँ के आंचल की छांव से 
कभी साक्षात्कार तो कभी व्यापार 
हर कदम पर ठोकर  ,
हर निगाह में धोखा 
फिर भी पाता , सबसे धिक्कार है 
लहू में थरथराता ,ये राष्ट्र का अभिमान है 
अवसरवादियों ,इन्हें अवसर दे के तो देखो 
ये हमारी ही संतान हैं ,ये हमारी ही संतान हैं .......... 

7 टिप्‍पणियां:

  1. युवा शक्ति की अंतर्मन को पहचानने और समझने की आज बहुत आवश्यकता है.
    सार्थक आह्वान !

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खुब....बेहद सुंदर रचना।युवा शक्ति ही राष्ट्र का भविष्य है........जो हम है।सही लिखा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. साथ रहें तो विकास, नहीं तो विनाश।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अवसरवादियों ,इन्हें अवसर दे के तो देखो
    ये हमारी ही संतान हैं ,ये हमारी ही संतान हैं .....

    विचारोत्तेजक रचना के लिए साधुवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऊर्जा का उपयोग करना चाहिए ना की प्रयोग.....अनसुने और बिना इस्तेमाल हुए ऊर्जा से हुआ विनाश...

    उत्तर देंहटाएं