शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

" सुख - दुख की धूप - छांव "

      हम सब ये जानते हैं और मानते भी हैं कि  सुख और दुःख धूप-छांव की 
तरह आते जाते रहते हैं | इनमें से कोई भी पल स्थायी नहीं है | परन्तु हमें 
दुख भरे पल बेहद लम्बे प्रतीत होते हैं , जब कि  वो उतने बड़े  होते नहीं है |
दरअसल हमारी मनोवृत्ति  कुछ ऐसी है कि अपना दुःख ब्रम्हांड  में  सबसे
कष्टकारी और असहनीय लगता है | संभवत: यहाँ पर ही हमसे गलती होती 
है | हम अपने दुखों के बारे में इतना अधिक सोचने लगते हैं कि सुख भरे लम्हों को ,जो हमने भरपूर जिया है  ,एकदम ही नकार देते हैं | सच्चाई तो 
ये है कि खुशियों भरे पल ९० से ९५ प्रतिशत होते हैं ,जो ५ से १० प्रतिशत 
दुःख भरे पलों के नीचे दब जाते हैं |
       इन भारी लगते  लम्हों को प्रमुखता दे कर हम खुद से ही शत्रुता करते 
हैं | कभी सोच कर देखिये जब भी  हमारा मन उदास होता  है , हमारा मन किसी  काम में  नहीं लगता है , चाहे वो काम हमारा कितना भी मनपसंद
क्यों न हो | उदास लम्हे  मस्तिष्क की तन्त्रिकाओं को संकुचित कर  देते 
हैं जिससे शरीर की सामान्य क्रियाए प्रभावित होती हैं |जब  हम  तनाव में 
रहते हैं तो वो चहरे पर भी दिखने लगता है  और फिर आतंरिक अंगों  पर      
भी असर आ जाता है | 
       इन लम्हों को अधिक महत्ता देने के  सबसे घातक परिणामस्वरूप खुद को असहाय मानता हुआ व्यक्ति अकेला पड़ता जाता है | ऐसे में जहाँ उस को 
सहानुभूति मिलती है , आकर्षित होने  लगता  है और  कभी - कभी  गलत 
परिस्थितियों में भी पड़ जाता है | 
        इन सब से बचने के लिए ,हमें सुखद पलों को याद कर के  दुखद पलों 
का सामना करना चाहिए , अन्यथा दुखद  यादें  हमारे मस्तिष्क को बर्बाद 
कर देगीं और हम तरह - तरह की बीमारियों का शिकार हो जायेगें |

5 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभु की माया...कहीं धूप कहीं छाया.... आपने बिलकुल सही कहा धुप छाँव दोनों साथ ही चलते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही कहा आपने.हमारे सुख के पल थोड़े से दुःख भरे पलों के नीचे दब जाते हैं.आवश्यकता इस बात की है हम दुःख को अपने ऊपर हावी न होने दें.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं