गुरुवार, 2 जून 2011

खुशियाँ......................


बड़ी खुशियों की तलाश में ,
दम तोड़  जाती नन्हीं खुशियाँ !
सूत दर सूत बढ़ कर ही ,
बन पाता वृक्ष विशाल .....
अंकुरण काल से ही ,बीज में 
छुपी रहती अपार संभावनाएं ....
जरा नन्हे से बीज से झांकती ,
पत्तियों को सँवार कर तो देखें  ....
बाल-मन की किलकारियों पर झूमती ,
नन्ही हथेलियों को सहला कर तो देखें ........ 
नींव की अनदेखी पड़ जायेगी भारी ,
जरा रेत पर इमारत बना कर तो देखें  .....
कहकहे लगाना हो मुश्किल तो ,
जरा थोड़ा सा मुस्कुरा कर तो देखें  .......
एवरेस्ट की चढ़ाई मुमकिन नहीं ,
जरा घर में ही क़दमों को बढ़ा कर तो देखें  .......
चमकते सूरज को नहीं देख सकते ,
जरा जर्रे को माहताब बना कर तो देखें  .....
दुनिया को हंसा नहीं सकते तो क्या ,
एक मुरझाये चेहरे को गुदगुदा कर तो देखें  ......
बड़ी खुशियाँ जब आयेंगी तब की तब देखेंगे ,
एक छोटे से प्रोत्साहन पर खिलखिला कर तो देखें .....
ये सुकून भरी साँसे इतनी मुश्किल भी नहीं ,
जरा प्यार से हाथ बढ़ा कर तो देखें ..........

19 टिप्‍पणियां:

  1. अंकुरण काल से ही ,बीज में
    छुपी रहती अपार संभावनाएं ....
    जरा नन्हे से बीज से झांकती ,
    पत्तियों को सँवार कर तो देखें ... aur phir sinchen aur unka vistaar dekhen , bahut badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  2. @सुषमा ,ये तो हम सब को समझना ही चाहिये ,धन्यवाद !
    दी ,सुबह अच्छी हो गयी न ...:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. नींव की अनदेखी पड़ जायेगी भारी ,
    जरा रेत पर इमारत बना कर तो देखें .....
    कहकहे लगाना हो मुश्किल तो ,
    जरा थोड़ा सा मुस्कुरा कर तो देखें .......

    हमें पाठ याद कराती एक बेहतरीन शिक्षिका की तरह है आपकी कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटी छोटी खुशियाँ मिलकर बड़ी से भी बड़ी हो जाती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आत्म शक्ति का बोध कराती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नन्ही हथेलियों को सहला कर तो देखें ........
    नींव की अनदेखी पड़ जायेगी भारी ,
    जरा रेत पर इमारत बना कर तो देखें .....
    कहकहे लगाना हो मुश्किल तो ,
    जरा थोड़ा सा मुस्कुरा कर तो देखें .......

    कितनी सुंदर बात कही...... छोटी छोटी खुशियाँ ही जीवन का रंग हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक छोटा सा प्रोत्साहन बच्चों का उत्साह दोगुना कर सकता है.
    बहुत अच्छी लगी आपकी यह रचना.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. Beej men hee vruksh kee sambhawnaen hain use to jatan se sawarna hee padega.

    उत्तर देंहटाएं
  9. sahi kaha aapane
    baccho ko hamesha protsahit karte rahna chahiye
    isse unake andar chupi pratibha bahar aa sakti hain

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब!
    बहुत अच्छे भाव। सफलता की राह में महत्त्व पहले क़दम का है, और पहल लेने का है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुछ भी करने के लिए सबसे पहले सकारत्म सोच बहुत जरुरी है
    आपकी कविता में वो सोच है ....बहुत अच्छी सोच ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ……………सकारात्मक सोच को दर्शाती बहुत ही सुन्दर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच कहा ... छोटी छोटी खुशियाँ ही दिल को सकूँ देती हैं ... महसूस करना चाहिए बस ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बड़ी खुशियों की तलाश में ,
    दम तोड़ जाती नन्हीं खुशियाँ !

    पहली दो लाइनों ने पूरी रचना का भाव स्पष्ट कर दिया. क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं
  15. बाँटकर जो सुख मिलता है शायद पाकर नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  16. ऐसी रचनाएं उम्मीद जगाती हैं... धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं