गुरुवार, 28 अप्रैल 2011

हां आज ही कर दूंगी ..........


ओ मेरे ?
व्यथित मन !
अब बस ,
आज ......
हाँ ! आज ही 
कर दूंगी 
तेरी विदाई ..........
यादों से भी ,
वादों से भी ...
अश्रुओं की 
वेणी बनाऊं ,
वेदना का 
पलना............
श्वांसों का 
चंवर डोलाऊं,
भीगे मन की 
अमृत-वर्षा !
देखा !
कर ली 
मैंने भी 
सारी तैयारी ....
तुझ से !
विलग ........
हो जाने की ..
बढ़े क़दमों को 
मंजिल मिले ,
या 
वृहत शून्य .............
                   -निवेदिता 


28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत गहरे अर्थ समेटे हुए है आपकी यह कविता.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़े क़दमों को
    मंजिल मिले ,
    या
    वृहत शून्य .............

    और निचे की तस्वीर ....
    आर या पार ....
    इसके लिए भी बहुत बड़ा हौसला चाहिए ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़े क़दमों को
    मंजिल मिले ,
    या
    वृहत शून्य ............

    कभी कभी ज़िंदगी में कुछ फैसले बिना परिणाम की चिंता किये लेने होते हैं..बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. हौसले बुलंद रखिये -
    मंजिल ही मिलेगी ...!!
    बहुत सुंदर रचना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़े क़दमों को
    मंजिल मिले ,
    या

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़े क़दमों को
    मंजिल मिले ,
    या
    वृहत शून्य .............

    अन्तर्मन की अनदेखी उडान. उत्तम प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. वृहद शून्य भी नहीं मिलता, कहीं त्रिशंकु सा लटका जीवन।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शून्य में समाना बहुत कठिन है ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (30.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  10. निवेदिता जी ...आपकी गहरे भावों वाली कविता बेहद पसंद आई. इसके लिए आपको बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा लिखा है.. भाव बहुत गहरे हैं...

    दुनाली पर देखें
    चलने की ख्वाहिश...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर शब्द और भाव से सजी अद्भुत रचना...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. मंजिलें आपको ढूंढ़ रही है बहुत अच्छी लगी , शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर शब्द और भाव से सजी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्वांसों का
    चंवर डोलाऊं,
    भीगे मन की
    अमृत-वर्षा !

    बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बढे क़दमों को मंजिल मिले या वृहत शून्य ...
    मगर कदम तो बढ़ा लिए हैं ...
    साहस के क़दमों के आगे परिणाम की क्या चिंता ...
    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत गहरे अर्थ समेटे हुए है आपकी अभिव्यक्ति.

    काश हम कर पाते व्यथित मन को विदा.

    उत्तर देंहटाएं
  18. और मैंने कहीं अपनी अर्जी लगाईं कि यार अब 'डब्बा' खाली करो तो,यह सिद्ध होता दिखता है कि आग्नेय बाण आज भी प्रचलन में है | (डब्बा बोले तो कंप्यूटर )
    पर कभी कभी जब मै पूरे मन से प्रयास कर उनकी कसौटी पर लगभग ५१% से अधिक खरा उतरता हूँ ,तब वे मुझे गुड ब्याय भी बोल देती हैं ,फिर भी मै उनके ब्लाग पर जाकर टिप्पणी नहीं करता हूँ | और जब वे इस बात पर गुस्सा करती हैं तब उन्हें उनके पासवर्ड की कसम दिला कर मना लेता हूँ |
    इस सब के बारे में उनका कहना है कि दरअसल उन्होंने कभी quality से compromise नहीं किया है ,(मुझको छोड़ कर ) |
    उनका ब्लाग ( झरोखा ) :nivedita-myspace.blogspot.com


    :))

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या वास्तव में ये अलगाव इतना सहज होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही भावपूर्ण रचना..सुंदर और सशक्त अभिव्यक्ति के लिए हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  21. "जो मंजिल पे पहुंचे दिखी और मंजिल ...
    ये जीवन तो लगता सिफ़र(शून्य) का सफ़र है .....
    सितारों से आगे अलग भी है दुनियां ....
    नजर तो उठाओ उसी की कसर है....

    ये विरक्ती क्यों !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आप सब मित्रों का आभार .........
    @हरकीरत’हीर’-
    कभी ओबामा बनी
    कभी बनी हंटरवाली
    तब भी नारी है अबला बिचारी .....))

    उत्तर देंहटाएं