सोमवार, 25 अप्रैल 2011

ढाई अक्षरों की सौगात ............


'शब्द'...........है क्या .........
मात्र ढ़ाई अक्षरों की मिल्कियत
पर संभावनाएं छुपाये खुद में अपार !
कोइ भी रिश्ते हों ,
कोइ भी जज्बात ,
माँगते बस कुछ..........
बोलतें अक्षरों की सौगात ..........
शब्दों का गूंगा होना
त्रासदी है मन की !!!
शब्दों को तो बस 
होना चाहिए अस्तित्ववान 
जिनसे चोट लगेगी ,
मलहम भी वही बनेंगे ......
जो होंगे ही नहीं बोल ,
मरुथल ही मरुथल पनपेंगे......
त्रासद होगा यूं ही .....
बंजर शब्दों के काँटों से छिलना ......
पर पेड़ ही न रहा .......तब ....
कांटे क्या फूल को भी तरसेंगे !!! 
अक्षर सिमटे तो ............
धरती बन विस्तृत हो जायें
अक्षर  बिखरें तो  ...........
फ़ैल जायें बन नील गगन .......
सिमट कर बिखरें या बिखर कर सिमटें ...
प्रिय की नियति सा ........
वालपेपर बन सज जायें .......
सब शब्दों में छुप जाए..........
शब्द तो तब भी याद आ-आ 
मन भर जायें जब .....
निष्प्राण हो तन-बदन .............
                        -निवेदिता
  


21 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों के बिना जीवन नीरस ही रहेगा.

    यह पंक्तियाँ बहुत प्रभावशाली लगीं-

    "जिनसे चोट लगेगी ,
    मलहम भी वही बनेंगे ......
    जो होंगे ही नहीं बोल ,
    मरुथल ही मरुथल पनपेंगे......"

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'शब्द...
    मात्र ढ़ाई अक्षरों की मिल्कियत
    पर संभावनाएं छुपाये खुद में अपार !
    to is dhaai akshar me hi zindagi hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'शब्द
    ढाई अक्षरों की सौगात .......
    *****************
    गहन भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोइ भी रिश्ते हों ,
    कोइ भी जज्बात ,
    माँगते बस कुछ..........
    बोलतें अक्षरों की सौगात ..........

    bahut sahi baat hai........har rishta abhivykti maangta hai....chahe woh dushmani ka ho ya dosti ka, nafrat ka ya pyar ka........badhiya....badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. शब्द की सत्ता बहुत ताकतवर होती है,
    शब्द ही मन्त्र बनते हैं,इसकी आवाज़ असरदार होती है!


    बहुत बढ़िया भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी कविता है-विस्तृत व्याख्या की संभावनाएं लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्दों का गूंगा होना
    त्रासदी है मन की !!!

    बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. शब्द...निशब्द ...हो जाते अक्सर ...बीएस बोलते है मौन ...उम्दा रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. शब्द...निशब्द ...हो जाते अक्सर ...बस बोलते है मौन ...उम्दा रचना ...
    २५ अप्रैल २०११ ९:४५ अपराह्न

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये मात्र ढ़ाई अक्षरों की मिल्कियत जिसके पास होती है ...
    सारे जहाँ की खुशियाँ उसके दामन में होती हैं .....
    सुंदर रचना .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ हैं, बहुत शानदार कविता..

    थैंक्स फॉर शेयरिंग.........

    रिगार्ड्स.........

    उत्तर देंहटाएं
  12. namaskar ji
    blog par kafi dino se nahi aa paya mafi chahata hoon

    उत्तर देंहटाएं
  13. कितने मन से सजोया है आपने इन शब्दों को, एक प्रभावशाली रचना
    अक्षय-मन "!!कुछ मुक्तक कुछ क्षणिकाएं!!" से

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या खूब कहा हॆ आपने.
    "शब्दों को तो बस
    होना चाहिए अस्तित्ववान
    जिनसे चोट लगेगी ,
    मलहम भी वही बनेंगे ......
    जो होंगे ही नहीं बोल ,
    मरुथल ही मरुथल पनपेंगे"

    उत्तर देंहटाएं
  15. खूबसूरत कविता के लिए आपको बधाई...
    ________________________
    'पाखी की दुनिया' में 'पाखी बनी क्लास-मानीटर' !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति प्रभावशाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रभावशाली रचना

    मेरी भी एक रचना पढ़े निवेदिता जी...
    हम- तुम मिलते थे
    दूसरों की नज़रों से बचते -बचाते
    कभी झाड़ियों में
    कभी खंडहरों के एकांत में
    सबकी नज़रों में खटकते थे
    फिर एक दिन ...
    घर से भाग गए थे
    बिना सोचे-समझे
    अपनी दुनियाँ बसाने //

    नीबुओं जैसी सनसनाती ताजगी
    देती थी तेरी हर अदा
    कितना अच्छा लगता था
    दो समतल दर्पण के बीच
    तुम्हारा फोटो रख
    अनंत प्रतिबिम्ब देखना
    मानो ...
    तुम ज़र्रे-ज़र्रे में समाहित हो //

    कहने को
    हम अब भी
    एक-दूजे पे मरते है
    एक-दुसरे के साँसों में बसते हैं
    एक-दूजे के बिना आहें भरते है
    मगर ....
    दिल के खिलौने को
    हम रोज तोड़ते हैं
    क्योकि हम प्यार करते है //

    उत्तर देंहटाएं
  18. ढाई अक्षर का शब्द नहीं यह तो जिससे आदमी की पहचान होती है | सुन्दर रचना , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. shbd brahm hai -shbdon se hi chalti hai Zindgi .chnd shbd hi to ham apne aas paas khade kar leten hain ,unhin se sukh ,unhin se dukh -sbd hataa do ,
    na sukh na dukh .
    sundar abhivyakti .anugoonj abhi baaki hai jo pdhaa us sabki .
    veerubhai .

    उत्तर देंहटाएं
  20. मन की अवस्था को पूर्ण व्यक्त करने के प्रयास में ये ढाई अक्षर।

    उत्तर देंहटाएं