शनिवार, 14 मई 2011

अनछुए से सपनों की सौगात................



ये क्या ......
ऐसे क्यों 
मांग लिया !
अनछुए से 
सपनों की 
सौगात ......
ये कैसे रिश्ते,
ये कैसे ज़ज्बात !
कर लेते कैसे 
शर्तों  की बात ,
साथ में थोपी 
अग्निपरीक्षा की 
जलती सौगात !
इन रेशमी -अधबुने से 
ख़्वाबों का कोष ,
यही तो निज मेरा है 
इस मंझधार में ,
शमशीर सी धार में 
क्या चुन लूँ ?
अपने अनछुए से सपनों को
या फिर ......
सपनों की हकीकत जैसे तुम को ...
ये दग्ध करते ख्याल 
किस से वंचित हो जाऊँ
किस को वंचित कर जाऊँ 
किस तट जा विराम पाऊँ ...........
                                     -निवेदिता 

  

31 टिप्‍पणियां:

  1. क्या चुन लूँ ?
    अपने अनछुए से सपनों को
    या फिर ......
    सपनों की हकीकत जैसे तुम को ...kya baat kah di aapne niveditadi.........bahut bhavnaatmak....

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरती से आकार लेते शब्द ,मनमोहक रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर अहसास को शब्द दिए है आपने
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर शब्द रचना.....निवेदिता जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. कर लेते कैसे
    शर्तों की बात ,
    साथ में थोपी
    अग्निपरीक्षा की
    जलती सौगात !

    ...मन के अंतर्द्वंद की बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन में दहकते प्रश्न ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो सत्य में सामने है, वही निभायेगा, वही सुख दिलायेगा। कल्पनायें तो काल्पनिक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपने जज्बातों को आपने खुबसुरत अदांज में शब्दों में पिरोया है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत गहरे भाव संजोये मर्मस्पर्शी कविता.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. कर लेते कैसे
    शर्तों की बात ,
    साथ में थोपी
    अग्निपरीक्षा की
    जलती सौगात
    गहरे भाव , भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या चुन लूँ ?
    अपने अनछुए से सपनों को
    या फिर ......
    सपनों की हकीकत जैसे तुम को ...
    ये दग्ध करते ख्याल
    किस से वंचित हो जाऊँ
    किस को वंचित कर जाऊँ
    किस तट जा विराम पाऊँ ..

    bahut sunder...
    dil ko chhuti hui rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  12. किस तट जा विराम पाऊँ ...........

    अंतर्मन का अंतर्द्वंद उकेरती .....सुंदर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  13. गहन चिंतन से उपजी सुन्दर और सार्थक कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. ये दग्ध करते ख्याल
    किस से वंचित हो जाऊँ
    किस को वंचित कर जाऊँ
    किस तट जा विराम पाऊँ ...........

    tumne to chhayawaad ka adhaar diya hai ismein

    उत्तर देंहटाएं
  15. किंकर्तव्यविमूढ़ता का सफल चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत उम्दा चित्रण...वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. mn kee gehraayiyoN se kahe gaye
    anoothe shabd
    anupam kaavya mei dhal gaye haiN .
    abhivaadan .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही खूबसूरत कविता बधाई निवेदिता जी |

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिल के जज्बातों को ज़ुबान दे दी है ....

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस मंझधार में ,
    शमशीर सी धार में
    क्या चुन लूँ ?
    अपने अनछुए से सपनों को
    या फिर ......

    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  21. Satya to isee jagat ka hai usase bach kar kahan jayenge par sapne dilasa dete hain ek aas bhee jagate hain. koshish se such bhee hote hain.

    उत्तर देंहटाएं
  22. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  23. आप सब मित्रों का आभार .....
    @संगीता दी ,उत्साहवर्धन के रूप में आपका आशीष मिल गया :-))

    उत्तर देंहटाएं
  24. मन की विकलता ने एक गंभीर रचना के रूप में सुन्दर आकार लिया है ! अत्यंत प्रभाशाली एवं मर्मस्पर्शी रचना ! बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  25. अहसास पड़ाव पर अंतर्मन को उकेरती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  26. अंतर की व्यथा को उजागर करती हुई रचना बहुत ही सुंदर लगी. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  27. मन के आरोह-अवरोह को खूबसूरती के साथ शब्दों में रूपांकित किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  28. किस से वंचित हो जाऊँ
    किस को वंचित कर जाऊँ
    किस तट जा विराम पाऊँ।

    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  29. सपनों की हकीकत जैसे तुम को ...
    ये दग्ध करते ख्याल
    किस से वंचित हो जाऊँ
    किस को वंचित कर जाऊँ
    किस तट जा विराम पाऊँ ..........
    मन के अंतर्द्वंद की बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं