शनिवार, 21 मई 2011

छोटी सी चाहत .........


अबोध नन्हे से  शिशु ,
जैसे चाँद-तारे उग गए अंचल में ,
सोचा दुनिया ही सारी वार दूँ,
अपनी आँखों के चमकते सितारे पर !
रंग-बिरंगे छोटे-बड़े गुब्बारे ,
या गोल-गोल लुढ़कती गेंद ,
ठुमकते कदमों में पहनाऊँ ,
झनकती-चमचमाती झांझर !
थोड़ा सा तो बड़ा हो ले  ,
सजा दूँ अक्षरों की दुनिया ,
अच्छा शिक्षालय अच्छा भविष्य ,
कुछ भी न रह जाए अनदिया !
फिर सोचा उसके मन में तो झाँकू ,
वहां क्या-क्या सपने हैं जग रहे .......
अरे ! इस नन्ही दुनिया की 
चाहत है ये कैसी अनोखी .........
इसे नहीं चाहिए कैसे भी 
खिलौनों का सजीला भण्डार ,
ना ही अक्षरों की रंगीली बरसात ,
ना तो स्नेह ,ना ही बरसता प्यार ,
बस इक छोटी सी है चाह .........
पा जाए हमारा बस अथाह दुलार !
ज़रा सा दुलराना बन जाए संजीवनी ,
हर कठिन कंटकित पथ हो जाए सहज ,
इस दुलार से वो तन जाए - संवर जाए ,
अनुभव कर दुलराती छाँव ,दृढ़ हो जाए ,
दुनियावी सलीके खुद ही साथ हो लेंगे ,
इक नन्हे से पौधे को संवार कर देखो ,
कब वटवृक्ष बन प्रमुदित हो छा जाएगा '
कमज़ोर पड़ते कांपते क़दमों का , 
बड़ा प्यारा मजबूत सहारा बन जाएगा , 
चलो अब से ही सही इनकी चाहत पूरी तो करो ,
बस थोड़ा सा उनको दुलरा तो लो ..........
                                                      -निवेदिता  




18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी लगी आपकी कविता
    जितनी कोमल और निश्छल बच्चे की मुस्कान होती है वैसी ही कोमल और मन को छूती हुई रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut acchi rachna ....mujhe mere baccho ka bacpan yaad aa gaya.....bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  3. @संजय शुभकामनायें !
    @अन्जु जी मेरा लिखना सार्थक हो गया :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज़रा सा दुलराना बन जाए संजीवनी ,
    हर कठिन कंटकित पथ हो जाए सहज ,
    इस दुलार से वो तन जाए - संवर जाए ,... yahi dulaar uski dhaal hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. बच्चों पर केन्द्रित संसार हो जाये तो भविष्य बड़ा सुखमय हो जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोमल भावनाओं की अभिव्यक्ति ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. कोमल अहसास और निश्छल प्रेम से ओतप्रोत सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत अभिव्यक्ति| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाकई !
    इन नन्हों को एक मज़बूत सहारा चाहिए जब तक वे आंधी के तेज थपेड़े सहने लायक न हो जाएँ ! बेहतर सोंच और दिशा है इस रचना में !शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बस इक छोटी सी है चाह .........
    पा जाए हमारा बस अथाह दुलार !
    ज़रा सा दुलराना बन जाए संजीवनी ,
    हर कठिन कंटकित पथ हो जाए सहज ,
    इस दुलार से वो तन जाए - संवर जाए ,
    अनुभव कर दुलराती छाँव ,दृढ़ हो जाए ,
    दुनियावी सलीके खुद ही साथ हो लेंगे ,
    इक नन्हे से पौधे को संवार कर देखो ,

    एक उत्कृष्ट रचना है निवेदिताजी ......सच में इतना दुलार तो उनका अधिकार और हमारा कर्तव्य है ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. मां का दुलार बच्चे के भविष्य को संवार देती है।
    सार्थक संदेश देती सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वात्सल्य में सराबोर रचना.....

    कोमल भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  13. निवेदिता जी सुन्दर वात्सल्य से परिपूर्ण रचना निम्न पंक्तियाँ बुढ़ापे का सहारा बनाती सुन्दर सन्देश दे गयीं बधाई हो -

    इक नन्हे से पौधे को संवार कर देखो ,
    कब वटवृक्ष बन प्रमुदित हो छा जाएगा '
    कमज़ोर पड़ते कांपते क़दमों का ,
    बड़ा प्यारा मजबूत सहारा बन जाएगा ,
    चलो अब से ही सही इनकी चाहत पूरी तो करो ,
    बस थोड़ा सा उनको दुलरा तो लो .........

    निवेदिता जी धन्यवाद आप का-

    बेटियों के पैदा होने पर -स्वागत में आप आयीं और बेटियों के लिए आप ने लिखा हर्ष की बात है -काश सब लोग बेटियों के लिए ऐसे ही सोच रखें कोई फर्क न करें ??

    ये मैंने बेटियों के लिए लिखा है से आप का मतलब क्या है ??

    शुक्रिया आप का

    उत्तर देंहटाएं