बुधवार, 4 मई 2011

कुछ अनसुलझे सवाल...........


                                                 ओ मेरे अजनबी मन !
                                                 आज आयी हूँ लेने ...
                                                 तुमसे कुछ अनसुलझे 
                                                 सवालों के जवाब ............

                                                क्यों रखा सिर्फ अपने ही पास 
                                                ये सब नकारने का अधिकार !
                                                तुम्हारे लिए भी सीमा-रेखा सी
                                                कुछ तो लकीर होनी चाहिए .......

                                                         तुम्हे अपनी सागर सी 
                                                         विशालता का है अभिमान 
                                                         क्यों भूल जाते हो .......कि तुम 
                                                         बने हो मुझ जैसी नन्हीं बूंदों से ......
                                                         सोचो क्या होगा तुम्हारा जब ,
                                                         हम नकार दे अस्तित्वहीन होने से .....
                                                         इस अभिमान को पोषित भी किया हमीं ने 
                                                        अपनी लघुता खो तुम्हे नि:स्सीम किया !
                                                        ज़रा सोचो तो कैसे बने महान ..............

                                                        तुम्हारी चमक-दमक के साये में ,
                                                        मेरी सादगी कुछ वीरान सी दिखती ........
                                                        पर क्या करूँ ....इस सफेदी से ही ....
                                                        लिए तुमने रंग उधार .........
                                                        आज आयी हूँ लेने वापस 
                                                        तुम्हारा ............मुझको ..................
                                                        नफ़रत करने का अधिकार..............
                                                                                                            
                                                       अब करते रहना अज-विलाप ................
                                                                                                       -निवेदिता 

21 टिप्‍पणियां:

  1. भावनाओं से ओत-प्रोत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावनाओं से ओत-प्रोत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. विशालता और सूक्ष्मता के बीच सुप्त होती जिन्दगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत संवेदनशील रचना , कुछ प्रश्नों के उत्तर मांगती हुई , सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम्हारी चमक-दमक के साये में ,
    मेरी सादगी कुछ वीरान सी दिखती ........
    पर क्या करूँ ....इस सफेदी से ही ....
    लिए तुमने रंग उधार .........
    आज आयी हूँ लेने वापस ... gahri rachna, mann mastishk mein utarti

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीवन की जद्दोज़हद के प्रभावित करते भाव... बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुप्रभातम निवेदिता जी बहुत ही सुंदर शब्द रचना /कविता के लिए आपको बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऊम्दा शबदो का इस्तमाल किया आपने !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आने का धन्यवाद !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  9. .इस सफेदी से ही ...
    लिए तुमने रंग उधार
    आज आयी हूँ लेने वापस ...

    सुंदर रचना के लिए साधुवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर कविता। आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया। आना सार्थक हुआ। अब आना जाना बना रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्‍दर रचना... बहुत बहुत बधाई ।।।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भावनाओं के पाश में बंधी खुद को आज़ाद करने के प्रयास में तल्लीन पर कुछ न कर पाने में असमर्थ |
    खुबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढ़िया भाव वर्णित किया है आपने...सचित्र प्रस्तुति के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. हर बड़ी चीज़ छोटे को भूल जाती है ... बहुत लाजवाब पंक्तियाँ हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुंदर कविता निवेदिता जी आपको नमन ,बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  16. अंतिम पंक्तियों में आपका दृढ़ निश्चय दिख रहा है , जो अच्छा लगा।
    बधाई निवेदिता जी।

    उत्तर देंहटाएं