बुधवार, 25 मई 2011

एक नाजुक सा ख़याल ...........


एक नाजुक सा ख़याल,
यूँ ही रेशम सा लहरा गया ,
आज चलो थोड़ा ये चलन 
कुछ बदल कर देख लें !
तुम्हारी जगह मैं थाम लूँ
तुम्हारे हाथों को .......
या फिर झाँक लूँ .....तुम्हारी
इन अधमुंदी आँखों में .......
चुरा ले जाऊँ ..........
उस सपनीली छाँव को,
बोलो या न बोलो ....
बस........रम जाऊँ
उन खामोश ........
जज़बातों की आंधी में ............
                                    -निवेदिता 
     

15 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर -कोमल -चंचल एहसास ...!!
    लुभावनी रचना ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुबसुरत एहसास से सजी मनमोहक रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhut khubsurat pyar aur bhut hi khubsurat ehsaas jinko apne rachna me likh diya..

    उत्तर देंहटाएं
  5. धैर्य प्रेम को सहज कर देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. .

    Nivedita ji , I'm lovin' the concept...

    "आज चलो थोड़ा ये चलन
    कुछ बदल कर देख लें !..."

    प्यार इसी को तो कहते हैं । हमेशा उम्मीद ही करते रहने में क्या मज़ा...कभी बढ़कर हाथ भी थामना चाहिए। ...होठों पर धीरे से उँगलियाँ फिरा दी जाएँ तो ? ..Ever tried this ? ....Results are awesome....smiles...

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब ...शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुबसुरत एहसास से सजी मनमोहक रचना। धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं