सोमवार, 18 जुलाई 2011

कहीं पलायन तो नहीं .......



हथेली से 
खिसकती जाती 
रेत सा 
बढ़ चला 
हठीला समय 
अवसान की ओर....
पत्ते भी हैं 
कुछ ज्यादा ही 
जल्दी में 
प्यास बुझाने को  
सूर्य-किरणों 
के आने के पहले ....
ओस की बूँदें 
मुँह छुपाती 
निगाहें चुरा 
बचाना चाहती हैं 
खुद को 
पता नहीं किससे ....... .
इस तरह 
चले जाना 
कहीं खुद से 
पलायन तो नहीं ....
        -निवेदिता 

28 टिप्‍पणियां:

  1. ओस की बूँदें
    मुँह छुपाती
    निगाहें चुरा
    बचाना चाहती हैं
    खुद को
    पता नहीं किससे ....... .

    bahut hi gahri abhivyakti.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सतसैया के दोहरे ज्यों नाविक के तीर
    देखन में छोटे लगें घाव करें गंभीर

    उत्तर देंहटाएं
  3. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय निवेदिता जी
    जन्मदिन पर बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सार्थक अभिवयक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंथ में विश्राम है, पलायन नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया कविता.
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.
    -----------------------
    कल 20/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस तरह
    चले जाना
    कहीं खुद से
    पलायन तो नहीं ...

    कुछ निराशा ..कुछ गहन भाव हैं आज आपकी रचना में ...!!

    जन्मदिन की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन में खुद से पलायन ही सबसे दुखद स्थिति है ...अच्छी रचना!!
    सालगिरह बहुत -बहुत मुबारक हो !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया कविता.गहन अभिव्यक्ति।
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया कविता.
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. कमाल की रचना...बधाई स्वीकारें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छे शब्दों में पिरोई हुई बढ़िया रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमेशा की भांति यह बहुत बढ़िया कविता है... आभार!
    अनेकानेक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. कहीं खुद से
    पलायन तो नहीं ..……खूबसूरत रचना…।

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रभावशाली अभिव्यक्ति.
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  18. बन्धुवर ,आप सब की शुभकामनाओं का धन्यवाद :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. कर्मों से भागना पलायन ही है ...
    शब्दों में बाँध लिया आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. गहन भावार्थ से सजी एक सुंदर कविता आपकी काव्य कल्पना को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुद्नर कविता ... दिल को छूती हुई सी .. मन में बसती हुई सी .. बधाई

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं