शनिवार, 9 जुलाई 2011

छोटी - बड़ी बूंदी सरीखे .......

छोटी - बड़ी रंग - बिरंगी बूंदी 
सरीखे ,हम सब भाई - बहन ,
माँ - पापा के प्यार - दुलार भरे ,
अनुशासन की पावन चाशनी में ,
बँधे - गुँथे मोतीचूर लड्डू जैसे ! 
शुभ शगुन बढ़ाते साथ हो लिए ,
हमारे हमराही जीवनसाथी बन !
इस मिठास पर चांदी के वर्क सा ,
सजते हमारे चंचल बाल - गोपाल !
दूर आसमान के चंदोवे से ताक - झाँक,
पुलकित हुए होंगे माँ , पापा और भाभी-माँ !!!
                                                   -निवेदिता   

17 टिप्‍पणियां:

  1. चासनी में डूबी हुयी एक मीठी रसीली प्रस्तुति. आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मीठा लगा यह रिश्तों का लड्डू :):)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर है सभी बुँदे....

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूरी जीवन रेखा सुंदर बन पड़ी है

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कविता पढकर हम भी पुलकित हो गये। बधाई।

    ------
    TOP HINDI BLOGS !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर रचना पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    उत्तर देंहटाएं
  8. चासनी की मकह आ रशी है इस रचना में ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह कितना सुन्दर लिखा है आपने बहुत खूबसूरत.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    उत्तर देंहटाएं