मंगलवार, 4 सितंबर 2012

आज ........ कल ........

मेरी यादों में 
मेरे वादों में 
मेरे इरादों में 
किलकता 
मेरा जो "हास" है 

पलकें थकने पर 
श्वासें अटकने पर 
सब के सब्र की
इति होने पर 
हाँ बस यही कल 
मेरा "इतिहास" है !!!
            - निवेदिता 


17 टिप्‍पणियां:

  1. ओह ओह ...क्या बयानगी है चंद ही पंक्तियों में..

    उत्तर देंहटाएं
  2. इतिहास की प्रस्तुति सुन्दर है ,बधाई मंजुल भटनागर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस छोटा सा जीवन, छोटी आशायें, छोटी आशायें..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भाव लिए
    बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप गज़ब करती हो ., गागर में सागर भरती हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह जी क्या बात है बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं