रविवार, 30 सितंबर 2012

प्यार के लिए बस प्यार चाहिए ......




प्यारा हो प्यार जरूरी नहीं 
प्यार के लिए बस प्यार ही चाहिए 
प्यार का दिल वीराना हो 
प्यार तो बेशुमार छलकाना चाहिए 
प्यारे का प्यार न भी मिले 
प्यार अपना बेहिसाब होना चाहिए 
प्यार दिखता नहीं तो क्या 
प्यार का एहसास भी जीना चाहिए
प्यार चाहिए ये कहें क्यों 
प्यार बस आँखों से बरसना चाहिए                  
प्यार के लिए रस्में क्या 
प्यार तो बस मन में बसना चाहिए 
प्यार में शर्तें क्या वादे क्या 
प्यार में जीने को बस एक सांस चाहिए 
प्यार में निगाहें यार के 
प्यार ,प्यार और बस प्यार चाहिए .......
                                           -निवेदिता 

25 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार के लिए रस्में क्या
    प्यार तो बस मन में बसना चाहिए
    बहुत प्यारी कविता है निवेदिता.. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार तो दिग दिगंत में फैला हुआ है और आपकी कविता का अनुनाद
    उसकी तीव्रता बढा रहा है . प्यार ही प्यार बेशुमार :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यार नहीं छुपता छुपाने से ... आँखों से हो,या बरबस होठों से निकल पड़े

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...
    ये कविता जीवन दर्शन है निवेदिता जी ...
    बहुत ही सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्यार की प्यारी बरसात मूसलाधार :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह प्यार ही प्यार बस प्यार ही प्यार क्या बात, इस प्यार को जमाने की नज़र न लगे

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 01/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यार में शर्तें क्या वादे क्या
    प्यार में जीने को बस एक सांस चाहिए,,,,,

    भावपूर्ण प्यार भरी खूब शूरत पंक्तियाँ,,,
    RECENT POST : गीत,

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्यार के लिए बस प्यार ही चाहिए.....kya baat hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. सटीक बात.......................

    प्यार के लिए मगर पैसा चाहिए :-)

    अरे नहीं....प्यारी सी कविता का नास हो जाएगा इस टिप्पणी से ...
    मुस्कुराती रहो....
    ढेर सा प्यार...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्यार दीवाना होता है मस्ताना होता है हर खुशी से हर ग़म से बेगाना होता है :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बस प्यार ही चाहिए ..और बेशुमार चाहिए...यही तो एक चीज़ है जिससे दिल नहीं भरता ...बहुत सुन्दर निवेदिताजी

    उत्तर देंहटाएं
  13. रूठे हुए शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन
    पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्यार रामा में है प्यारा अल्लाह लगे ,प्यार के सूर तुलसी ने किस्से लिखे
    प्यार बिन जीना दुनिया में बेकार है ,प्यार बिन सूना सारा ये संसार है

    प्यार पाने को दुनिया में तरसे सभी, प्यार पाकर के हर्षित हुए है सभी
    प्यार से मिट गए सारे शिकबे गले ,प्यारी बातों पर हमको ऐतबार है

    प्यार के गीत जब गुनगुनाओगे तुम ,उस पल खार से प्यार पाओगे तुम
    प्यार दौलत से मिलता नहीं है कभी ,प्यार पर हर किसी का अधिकार है

    प्यार से अपना जीवन सभारों जरा ,प्यार से रहकर हर पल गुजारो जरा
    प्यार से मंजिल पाना है मुश्किल नहीं , इन बातों से बिलकुल न इंकार है

    उत्तर देंहटाएं
  15. "प्यार दिखता नहीं तो क्या
    प्यार का एहसास भी जीना चाहिए
    ........
    प्यार के लिए रस्में क्या
    प्यार तो बस मन में बसना चाहिए"

    उत्तर देंहटाएं
  16. "प्यार दिखता नहीं तो क्या
    प्यार का एहसास भी जीना चाहिए
    ........
    प्यार के लिए रस्में क्या
    प्यार तो बस मन में बसना चाहिए"

    उत्तर देंहटाएं