बुधवार, 12 अक्तूबर 2011

ओ आसमान के चाँद !!!




ओ आसमान के चाँद ,
तुम वहीं कहीं चमकना ,
भूले से भी कभी यूँ ही 
नीचे न आ जाना .....
अपनी आदत से मजबूर 
तुझे किरचों सा तराश 
टुकड़ों-टुकड़ों में बाँट डालेंगे 
तेरी चांदनी भी कटी-फटी
टुकड़ों में ही झिलमिलायेगी
चमक कहाँ ,वो तो चांदनी की 
दम तोड़ती परछाईं रह जायेगी
हम तो तुझे हर वार-त्यौहार  में 
शगुन सा पुकारेंगे ,तुझे देख-देख  
तुझ पर पुष्प ,अर्ध्य - जल वारेंगे 
कामना की पूर्ती में शीश नवायेंगे  
गणेश -चौथ हो या करवा -चौथ
निहारते तेरी बाट ..... 
पर तू न आया तब भी  ,हम तो 
अपने धरती के चाँद में तुझे पायेंगे 
पर कहीं भूले से आ गया , तुझ में 
दाग खोज मन ही मन मुस्कायेंगे .....
कभी जीवन कभी जल की खोज में 
तुझ तक पहुँच तेरे भी टुकड़े कर डालेंगे
तुझे पूजते-पूजते तेरे टुकड़ों को भी   
बेच-बेच कर सब से ऐसे ही पुजवायेंगे
इसीलिये ओ चाँद !आसमान के चाँद !
भूले से भी धरती पर न आ जाना .........
                                           -निवेदिता 

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही खूबसूरत कविता निवेदिता जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनुष्य की लिप्सा, लालसा और भौतिक इच्छाओं ने चांद को धरती का चांद कहने लायक ही न छोड़ा है इसलिए बेहतर तो यही है कि चांद न आए धरती पर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी तो कम से कम सबके हो, आगे न जाने क्या होगा?

    उत्तर देंहटाएं
  4. लाजवाब रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही खूबसूरत कविता।
    -----
    कल 14/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाजवाब रचना
    बहुत ही अच्‍छी

    उत्तर देंहटाएं
  8. sach hi kahaa hai aapne.....insaan ka bas chale to har chiz ko tukdon men baant daale....

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही है , भू माफिया की नजर लग चुकी है ,सुना है प्लाट भी बिक रहे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक व्यथा को चाँद के जरिये बहुत ही कुशलता से व्यक्त किया है.वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपनी आदत से मजबूर
    तुझे किरचों सा तराश
    टुकड़ों-टुकड़ों में बाँट डालेंगे....

    आह! व्यथा के शब्द... करते निःशब्द.....
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  12. निवेदिता जी नमस्कार, बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही खूबसूरत कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  14. निवेदिता जी बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ..हम तो तुझे अपने चाँद में ...करवा चौथ मुबारक हो ...भ्रमर५
    गणेश -चौथ हो या करवा -चौथ
    निहारते तेरी बाट .....
    पर तू न आया तब भी ,हम तो
    अपने धरती के चाँद में तुझे पायेंगे
    पर कहीं भूले से आ गया , तुझ में
    दाग खोज मन ही मन मुस्कायेंगे .

    उत्तर देंहटाएं
  15. कभी जीवन कभी जल की खोज में
    तुझ तक पहुँच तेरे भी टुकड़े कर डालेंगे
    तुझे पूजते-पूजते तेरे टुकड़ों को भी
    बेच-बेच कर सब से ऐसे ही पुजवायेंगे..

    मीठा मीठा व्यंग्य किया आपने इंसानियत पर... बहुत खूब..!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह .. क्या बात कही है ... सच में इस चाँद को धरती पर नहीं आना चाहिए ... नहीं तो दुनिया उसे बेच खायेगी ...

    उत्तर देंहटाएं