शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2011

बिखरे लम्हे ..................



क्या खोजा ,क्या पाया 
क्या चाहा ,क्या सराहा 
क्या फला ,क्या झरा 
क्या जला ,क्या बुझा 
इन उलझनों में भटकता 
मन वृन्दावन हो गया !


सबसे मूल्यवान जल 
प्रिय नयनों में बसता है 
मात्र इक प्रतिशत पानी 
शेष बसती भावनाएं हैं !


इतना भर आया मन 
सब शून्य हो गया 
छलकते रहे मन-प्राण 
शुष्क मधुबन हो गया !


बाल मन की चाह चाँद पाने की 
युवा मन की चाह चाँद बन जाने की 
हारे मन की कैसी अनोखी प्यास 
अमावस में चांदनी बचा ले जाने  की !
                                       -निवेदिता 

32 टिप्‍पणियां:

  1. इतना भर आया मन
    सब शून्य हो गया
    छलकते रहे मन-प्राण
    शुष्क मधुबन हो गया !
    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अमावस के लिये कितना बचाकर रखते रहते हैं, चाँदनी भी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाल मन की चाह चाँद पाने की
    युवा मन की चाह चाँद बन जाने की
    हारे मन की की अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !

    बेहतरीन पंक्तियाँ।
    ----
    कल 22/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाल मन की चाह चाँद पाने की
    युवा मन की चाह चाँद बन जाने की
    हारे मन की की अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !
    andheri raat ke lie thoda prakash sab bacha hi lete hain....
    bahut sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  5. ab to bas yahi kahna hai ki dard mere gaan ban ja
    sun jise dharti ki chhati hil pade ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. निवेदिता जी इस पोस्ट की तारीफ़ के लिये शब्द कम पड रहे हैं……………शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर भावों से सजी कविता. दीपावली की अग्रिम शुभ कामनाये स्वीकार करे

    उत्तर देंहटाएं
  9. ''सबसे मूल्यवान जल
    प्रिय नयनों में बसता है
    मात्र इक प्रतिशत पानी
    शेष बसती भावनाएं हैं !''

    गजब की भावनाएं....
    बेमिसाल.... लाजवाब.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बाल मन की चाह चाँद पाने की
    युवा मन की चाह चाँद बन जाने की
    हारे मन की कैसी अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !

    वाह ..

    बहुत खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सबकी अपनी-आपनी चाह है। पर सही चाह तो उससे मिलन की ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बाल मन की चाह चाँद पाने की
    युवा मन की चाह चाँद बन जाने की
    हारे मन की कैसी अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !

    bahut sundar nivedita jee...

    उत्तर देंहटाएं
  13. शानदार लेखन...........
    बेहतरीन अभिव्यक्ति......
    वाह......

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत कविता निवेदिता जी |दीपावली की शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही खूबसूरत रचना...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्या खोजा ,क्या पाया
    क्या चाहा ,क्या सराहा
    क्या फला ,क्या झरा
    क्या जला ,क्या बुझा
    इन उलझनों में भटकता
    मन वृन्दावन हो गया !गहन एहसासों को वयक्त करती रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  17. इन उलझनों में भटकता
    मन वृन्दावन हो गया !....

    सच को उद्घाटित करती पंक्तियाँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. निवेदिता जी, आपने बहुत गहरी बात कह दिया है .बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  20. निवेदिता जी खूबसूरत भावपूर्ण कविता |दीपावली की शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  21. इतना भर आया मन
    सब शून्य हो गया
    छलकते रहे मन-प्राण
    शुष्क मधुबन हो गया !
    ....gahan vedanamay man ki ek jhini aawaj.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बिखरे लम्हों को सिद्दत से महसूस किया है आपने इस कविता में। ..अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सबसे मूल्यवान जल
    प्रिय नयनों में बसता है
    मात्र इक प्रतिशत पानी
    शेष बसती भावनाएं हैं !

    ....बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  24. हारे मन की कैसी अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !
    bhad khoobsurat

    उत्तर देंहटाएं
  25. इतना भर आया मन
    सब शून्य हो गया
    छलकते रहे मन-प्राण
    शुष्क मधुबन हो गया !

    बहुत हि सुन्दर भावनात्मक!
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  26. हारे मन की कैसी अनोखी प्यास
    अमावस में चांदनी बचा ले जाने की !
    सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  27. क्या खोजा ,क्या पाया
    क्या चाहा ,क्या सराहा
    क्या फला ,क्या झरा
    क्या जला ,क्या बुझा
    इन उलझनों में भटकता
    मन वृन्दावन हो गया ! bhaut hi khubsurat... happy diwali...

    उत्तर देंहटाएं