शनिवार, 29 अक्तूबर 2011

काँच के रिश्ते ?


नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं 
या रिश्तों में दरकता है काँच 
निर्मल काँच ही है चमकता
रेत का एक कण भी कहीं 
बहुत गहरे छोड़ जाता है 
चंद प्रश्न करते हुए निशान 
आत्मा को खरोंचती अनबूझी 
रपटीली पगडंडियों सी चिटकन 
इन रिश्तों में दिखती अपनी ही 
अजनबी सी परछाईं है , 
अपने ही  अनसुलझे सवालों के 
मनचाहे जवाब तलाशता 
अपराधी सा अंतर्मन है .....
                        -निवेदिता 

25 टिप्‍पणियां:

  1. रिश्तों में दरकता है काँच
    आत्मा को खरोंचती
    per is khoon ka swaad bhi ajib hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं
    या रिश्तों में दरकता है काँच
    निर्मल काँच ही है चमकता
    रेत का एक कण भी कहीं
    बहुत गहरे छोड़ जाता है... गहरी छाप छोडती रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं
    या रिश्तों में दरकता है काँच

    sundar...

    www.poeticprakash.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं
    या रिश्तों में दरकता है काँच
    घोर असमंजस की स्थिति है यह!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रेत का एक कण भी कहीं
    बहुत गहरे छोड़ जाता है
    चंद प्रश्न करते हुए निशान

    बहुत अच्छी लगीं यह पंक्तियाँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं
    या रिश्तों में दरकता है काँच
    मुश्किल प्रश्न उत्तर की तलाश जारी है ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुपम प्रस्तुति है आपकी,निवेदिता जी.
    अंतर्मन को झंकृत करती हुई.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहरी भावाभिव्‍यक्ति।

    सुंदर शब्‍द संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिश्तों की अनुपम प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. कांच की पहली शर्त है पारदर्शिता। रेत का एक कण भी खलल डालने के लिए पर्याप्त है। कांच के रिश्ते बेवजह चटक जाते हैं। नहीं पचा पाते रेत के एक कण को भी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 31-10-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  12. मनचाहे जवाब तलाशता
    अपराधी सा अंतर्मन है .....
    सहज पर सटीक!

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद। ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. नहीं पता ये काँच के रिश्ते हैं
    या रिश्तों में दरकता है काँच

    सुन्दर!
    गंभीर चिंतन/अभिव्यक्ति....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  15. जब दरकाता है कांच तो उसकी आहट अंदर में बहुत दूर तक सुनाई देती है। लगता है यह तो फिर से न जुड़ने वाला चोट दे गया।

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. चंद प्रश्न करते हुए निशान
    आत्मा को खरोंचती अनबूझी
    रपटीली पगडंडियों सी चिटकन
    इन रिश्तों में दिखती अपनी ही
    अजनबी सी परछाईं है ,

    bahut sundar aur gehra likha hai..
    badhai ho..

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपने ही अनसुलझे सवालों के
    मनचाहे जवाब तलाशता
    अपराधी सा अंतर्मन है .....

    ....बहुत गहन और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  19. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं