गुरुवार, 22 दिसंबर 2011

पलकों की ओस .........



अश्रु  पुकार क्यों खारा करूँ
मैं तो हूँ पलकों की ओस
ऐसे-कैसे अपना परिचय दूँ
यही मनन करूँ बारम्बार
ये लरजते हुए आँसू सिर्फ
स्वाद ही नहीं बेस्वाद करते
अच्छी चमकीली राहों को
धुंधलेपन का अभिशाप
लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
विरासत में दे जाते हैं !
ओस तो सुरभित सुमन में
रिश्तों की नमी को सहेजे
अतिशीतलता से बचा जाती
हर आती-जाती हवा के तेज
ठिठुरते थपेड़ों से सामने
टिके रह जाने की जिजिविषा
सहेज सहलाती बलखाती
वैसे भी कुछ तो बदलाव
हर दिन सौगात में ले आता
बस अश्रुओं को बदल दिया
पलकों की ओस से ........
                        -निवेदिता

26 टिप्‍पणियां:

  1. न जाने दुखों की कितनी धुंध से जमकर बनती है पलकों की ओस। अत्यन्त प्रभावी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ठिठुरते थपेड़ों से सामने
    टिके रह जाने की जिजिविषा
    सहेज सहलाती बलखाती
    वैसे भी कुछ तो बदलाव
    हर दिन सौगात में ले आता
    बस अश्रुओं को बदल दिया
    पलकों की ओस से ........
    bahut achhi abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहरे अहसास।
    सुंदर प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ....बहुत ही बढि़या लिखा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कविता में संवेदना की असीमित गहराई होती है !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत गहरी संवेदना किये हुए रचना...बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक भावपूर्ण कविता के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल 24/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. वैसे भी कुछ तो बदलाव
    हर दिन सौगात में ले आता
    बस अश्रुओं को बदल दिया
    पलकों की ओस से ........

    khoobsoorat...

    उत्तर देंहटाएं
  10. संवेदनशील रचना अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. आंसूंओं की बात की ... बड़े सलीके से...

    कायल कर लिया इस कविता ने.

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहरे एहसास और भावों से भरी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बस आंसुओं को नहीं बदला ... दर्द के एहसास को सुनहरे सपनों में बदल दिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना,...अच्छी प्रस्तुती,
    क्रिसमस की बहुत२ शुभकामनाए.....

    मेरे पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--बेटी और पेड़-- मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  15. वैसे भी कुछ तो बदलाव
    हर दिन सौगात में ले आता
    बस अश्रुओं को बदल दिया
    पलकों की ओस से ........

    ...बहुत खूब! लाज़वाब अहसास और उनकी सुंदर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  16. बस अश्रुओं को बदल दिया
    पलकों की ओस से ........
    वाह क्या बात है बहुत ही खूबसूरत बात और जज़्बात लजवाब...

    उत्तर देंहटाएं