गुरुवार, 8 दिसंबर 2011

कारण तुम ,निवारण तुम


होती एक टुकडा कागज़ का ,
तकिये के नीचे ठौर पाती ....
होती कोई ख़्वाब सलोना ,
तुम्हारे नयनों में बस जाती
होती प्यारा भाव तुम्हारा ,
दिल की धडकन में बस जाती
होती रंगीला रंग तुम्हारा ,
तुम्हारे अंगों में रच जाती
मैं तो हूँ बस साथ तुम्हारा ,
तुम में ही जी लेती हूँ
एक अटपटा सा सच तुम्हारा ,
साँसे तुमसे ही उधार लेती हूँ
किससे करें ये शिकवे ,
कैसी भूलभुलैय्या सी शिकायतें
इनका कारण ही नहीं
निवारण भी हो सिर्फ तुम !
                           -निवेदिता 

28 टिप्‍पणियां:

  1. कैसी भूलभुलैय्या सी शिकायतें
    इनका कारण ही नहीं
    निवारण भी हो सिर्फ तुम !very nice.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कैसी भूलभुलैय्या सी शिकायतें
    इनका कारण ही नहीं
    निवारण भी हो सिर्फ तुम !
    bahut sunder man ke bhaav ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सारे गुस्से का कारण तुम
    रूठने का कारण तुम
    कुछ गिराने का कारण तुम ...
    सीधी सी बात है, हर वक़्त तुम्हारे साथ रहना चाहती हूँ , बातों में, ख्यालों में .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. करण और निवारण दोनों ही जब तुम तो छुटकारा कहाँ ? भावमयी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. इनका कारण ही नहीं
    निवारण भी हो सिर्फ तुम !
    बहुत खूब ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये अटपटा सा सच बड़ा भाया .. सुन्दर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  7. कारण में ही छिपे निवारण, कोई उन्हें बतलाये तो,
    भाव कहाँ आकार समाते, शब्दों से समझाये जो।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कारण तुम निवारण भी तुम...फिर कैसी शिकायत..सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुबसूरत शिकायत.....बेजोड़ भावाभियक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  11. साँसे तुमसे ही उधार लेती हूँ
    किससे करें ये शिकवे ,
    मन को छूती बातें, भाव को जगाती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर भाव ...बहुत खूब लिखा है आपने समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  13. निवेदिता जी,..
    बहुत सुंदर लिखा आपने भावपूर्ण सुंदर पोस्ट,मन को भाया...
    मेरे नये पोस्ट में आपका इंतजार है,."काव्यांजली"में

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है,
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे नए पोस्ट की चंद लाइने पेश है..........

    नेताओं की पूजा क्यों, क्या ये पूजा लायक है
    देश बेच रहे सरे आम, ये ऐसे खल नायक है,
    इनके करनी की भरनी, जनता को सहना होगा
    इनके खोदे हर गड्ढे को,जनता को भरना होगा,

    अगर आपको पसंद आए तो समर्थक बने....
    मुझे अपार खुशी होगी........धन्यबाद....

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर भाव।
    इस कविता की रचनाकार लखनऊ मे है यह जानकर सखाभाव पैदा हो गया। मैं भी जो यहाँ बस गया हूँ।

    उत्तर देंहटाएं