रविवार, 25 सितंबर 2011

don't want an ending........


        दोस्तों ,मेरे बड़े बेटे अनिमेष ,जो आई .आई .टी कानपुर में बी टेक तृतीय वर्ष का छात्र है ,ने अपने विचारों को कुछ इस रूप में कहा है ............. अनिमेष को अपना आशीष दीजिये :)


paths crossed...was it meant to be???
don't want an ending...
will it hold???...or just be a passing dream???
don't want an ending...
what changed it all...will it change???
don't want an ending...
can someone tilt the hour glass back???
don't want an ending...
those moments passed...would just fade???
don't want an ending...
fight for it???...is it worth it???
don't want an ending...
want to risk it all...do i really???
don't want an ending...
if has to end...why not now???
don't want an ending...
better wait...because really...
DON'T WANT AN ENDING...
               -Animesh Srivastava

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 26-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. better wait...because really...
    DON'T WANT AN ENDING...

    बहुत अच्छे से भैया ने अपनी बात कही है।उन्हें हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेटे की बात मान लीजिये, समय पीड़ा देता है तो उपचार भी करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन को छूते शब्‍द ... शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भैया ने सचमुच बहुत अच्छे से समझाया है ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    उत्तर देंहटाएं




  7. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  8. दोस्तों ,अनिमेष को इतना स्नेह देने के लिये आप सब का बहुत-बहुत धन्यवाद :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. विचार पूर्ण अभिव्यक्ति! -अब अनिमेष से कहें कि वे इसका हिन्दी भावानुवाद भी करें -या फिर आप करें :)

    उत्तर देंहटाएं