शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

मासूम से सपनों को.........



                                                 नन्हीं पलकें अलसाई
                                                स्वप्निल सी मुस्काई 
                                                ओस सी मासूम अँखियाँ 
                                                खिलते और खुलते ही 
                                                अपनों के अरमानों की 
                                                अपेक्षाओं के तले कुछ 
                                                सहमी सी कसमसाई 
                                                सबने अपनी चाह जताई 
                                                अधूरे अरमान जगाये....
                                                अधूरी आशाओं अपेक्षाओं का 
                                                चंदोवा तान ,असीमित सीमाएं  
                                                समेट ,सिमटे आसमान का 
                                                कोना दिखलाया .......

                                             मनमोहक सुमन की सुरभि को 
                                             इत्र बना छोटी -छोटी शीशियों की 
                                             कैद में सजा सामान(?) बनाया  
                                             क्यों न इन नन्ही पलकों की 
                                             पावन अँगड़ाई सुरभित सुमन सा 
                                             लहराने इतराने दें ..................
                                             नन्हीं साँसों के अलबेले सपनों को 
                                             सावन के झूलों सी इक नयी  
                                             ऊँचाई छू आने  दें ..... 
                                             उनके  मासूम से सपनों को 
                                             एक नया बसेरा बनाने दें .....

                                                                                                -निवेदिता
 

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढि़या भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उनके मासूम से सपनों को
    एक नया बसेरा बनाने दें .....

    कोमल अहसासों से सजी बहुत भावमयी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत कोमल से एहसास ..सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सपनो की दुनिया अजब हे और यदि वह शिशु की हो तो अन्नंत है.!अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोमल भावो का खूबसूरत सा अहसास....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुदर अभिव्यक्ति ....बचपन ऐसा ही होना चाहिए
    माँ बाप की आकंक्षयों ने
    आज के बच्चों का बचपन छीन लिया ....क्या वो कभी खुद को दोषी मानेगे ????
    --

    anu

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति... सुन्दर विचार...सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही खुबसूरत और कोमल ख्याल है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बन्द नयन में स्वप्न भरे हैं,
    आनन्दों से फूल झरे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही खुबसूरत और कोमल,अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  12. नन्हीं सांसों को सपनों के झूले का प्रयोग कविता के सौंदर्य में चार चांद लगा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर कविता और कोमल भाव- बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर...प्यारी सी रचना..
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं