सोमवार, 5 सितंबर 2011

अभिनंदन



                                                    चाहती हूँ रंगों के सागर में  
                                                    कुछ रंग मैं भी सजा आऊँ .
                                                    एक धुंधली सी तस्वीर में 
                                                    इक रंग प्यार का भर आऊँ 
                                                    हो न जाए कहीं किसी रंग में
                                                    धूमिल या चटकीली मिलावट 
                                                    सफेद तो रहे ही बेदाग़ ,
                                                    काला भी हो रौशन चमकीला 
                                                    चाँद-तारों की थिरकन से 
                                                    भरा-भरा रहे सजा सँवरा....
                                                    उस धुंधली तस्वीर में 
                                                    ख़्वाबों की सुवास बसा दूँ
                                                    धुप ,कपूर ,अगरु औ चन्दन 
                                                    इन से करूँ अभिनंदन ..........
                                                                                 -निवेदिता 

  

22 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत है ये रंगों का संसार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर, प्यार कि रंग हैं ही ऐसे अपना असर दिखायंगे ज़रुर .......

    उत्तर देंहटाएं
  3. काला भी हो रौशन चमकीला .... sadhuvad is kalpana ke liye...

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन में रंग हैं तो आनंद हैं ..ये बने रहें यही शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप का ये रंगों का संसार !बहुत ही खूबसूरत है......

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर भावपूर्ण कविता निवेदिता जी बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सतरंगी कल्पनाये - बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अर्थपूर्ण .. रंगों की गागर में अपना रंग मिलाने की चाह ...लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भावना प्रधान रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहन अभिव्यक्ति....सुंदर भाव लिए....

    उत्तर देंहटाएं