गुरुवार, 17 मार्च 2011

रंग तो प्रिय .........

नीला -काला -बैगनी, 
रंग न ये तुम लगाना ,
ये तो सारे अंधियारा लाते !
लाल-गुलाबी-हरा औ पीला 
ये ही सब मनभाते हैं 
सबके  शगुन बन 
खुशियाँ फैला जाते हैं 
लाल चुनरिया ,
गुलाबी गात 
हरी है चूड़ी,
पीला रंग शगुन  
बन लहरा जाता 
रंग तो प्रिय वही लगाना 
तुम देखो ,मैं समझूं 
मैं निरखूं तुम परखो 
रंग तो प्रिय ........
             -निवेदिता-


19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर होली कविता
    ब्लॉग पर अनियमितता होने के कारण सभी से माफ़ी चाहता हूँ ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सभी होली की हार्दिक सुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमने भी कुछ रंग उछाल फेंके हैं आपकी तरफ ....
    होली की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर..होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया !

    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभ कामनाएं!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. खिले हुये रंगों से खिली हुयी होली।

    उत्तर देंहटाएं
  7. लाल चुनरिया ,
    गुलाबी गात
    हरी है चूड़ी,
    पीला रंग शगुन

    रंगों से....बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. रंग तो प्रिय वही लगाना , तुम देखो मैं समझूं !
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर ...होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर्……………होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. रस-रंग भरी रचना ...
    रंग पर्व पर मंगलकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  12. उत्साहवर्धन के लिये आप सबका आभार .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.

    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  15. टिप्पणियों के रूप में इतने सारे रंग भरने के लिये आप सबका
    आभार .आप सब को भी रंग-पर्व की शुभकामनायें.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. Rangon ko khubsoorti se sajaya hai aapne is kavita mein.Ati sundar...badhayee.

    उत्तर देंहटाएं