सोमवार, 7 मार्च 2011

लकडी की छीलन सी ................

लकड़ी की छीलन सी, 
परत हटाती जाती ज़िंदगी !
नया रंग-रूप पाने में 
कभी रंदे की, 
कभी आरी की ,
धार सहती जाती ज़िंदगी !
नए आकार को 
सम्हाल पाने में ,
हथौड़े की ठोकर 
सहती जाती बेचारी ज़िंदगी !!!
                               निवेदिता 

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता
    सच जिन्दगी मे पता नही क्या क्या सहन करना पडता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. "..हथौड़े की ठोकर
    सहती जाती बेचारी ज़िंदगी"

    यही तो यथार्थ है.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहीं टिके रहने के लिये जड़वत होती और कील के नीचे ठोकी जाती जिन्दगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सबका आभार ।
    प्रवीण भाई , आपने तो मेरी कविता पूरी कर दी ।शुक्रिया ।

    उत्तर देंहटाएं