शनिवार, 5 मई 2012

........

अश्रु 
तुम्हारे 
या मेरे 
दिल में हों 
पलकों में 
या आँखों से
चेहरे पर 
कहीं भी हो 
होते  बोझिल 
उनके साथ 
कभी मैं
कभी तुम 
और अक्सर 
हम दोनों ही 
बहते हुए 
पीछे छूट 
जाते हैं 
लम्हे 
बस इक 
शून्य सा 
छोड़ जाते हैं .......
           -निवेदिता 

17 टिप्‍पणियां:

  1. हम दोनों ही
    बहते हुए
    पीछे छूट
    जाते हैं
    लम्हे
    बस इक
    शून्य सा
    छोड़ जाते हैं ..

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति // बेहतरीन रचना //

    MY RECENT POST ....काव्यान्जलि ....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँसू बहने के पहले न जाने कितना कुछ बहता होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस छोटी सी रचना में आपने पंक्तियों और शब्दों का ऐसा सुंदर उप(प्र)योग किया है कि आसुओं का सगर उमड़ पड़ा है। एक दम भींगा-भींगा सा अहसास हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भूल सुधार ---
    कल 07/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. इन लम्हों के शून्य में यादों कों जोड़ने का प्रयास ही जीवन का निरंतर संघर्ष है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाओं का सुन्दर तालमेल सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  8. अश्रु
    तुम्हारे
    या मेरे
    दिल में हों
    पलकों में
    या आँखों से
    चेहरे पर
    कहीं भी हो
    होते बोझिल
    उनके साथ
    कभी मैं
    कभी तुम ....

    बहुत खूब...!

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावपूर्ण प्रस्तुति अंतस तक भिगो गयी.

    बधाई और शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  10. पहले आँसू और फिर शून्यता गहरे भाव...सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं