बुधवार, 2 मई 2012

उलझे ख्याल


कभी खुद 
अपने ही घर में 
खुद को मेहमान बना के देखें !
सजावटी क्राकरी में 
अपने लिए भी चाय सजाकर देखें !
कभी खुद अपने लिए 
फूलों की रंगीनी को सजा कर देखें ! 
कभी किसी उदास सी  
शाम को रंगों से नहला कर देखें !
कभी यूँ ही भटक कर 
खुद के लिए तोहफे चुन कर देखें ! 
नित घटती जाती साँसों से 
अपने लिए भी इक लम्हा चुरा कर देखें !
निभा चुकी जिम्मेदारियों के बाद 
कभी-कहीं सफर में तन्हा जा कर देखें !
हाँ !सच है ...अपनी दीवारें 
अपनी सीमाएं ,यादों में आ-आ कर 
राहों को थामेंगी जरूर 
अपने अंधेरों से बाहर आने को 
बस इक कदम बढ़ा कर देखें !
इतनी तल्ख भी नहीं ज़िन्दगी 
जरा आँखों से आँखें मिला कर तो देखें ........
                                           -निवेदिता 



15 टिप्‍पणियां:

  1. जीवट ....जिजीविषा से भरी बहुत सुंदर रचना ....
    बधाई एवं शुभकामनायें ....निवेदिता जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,प्रभावित करती सुंदर रचना,.....बधाई निवेदिता जी

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतनी तल्ख भी नहीं ज़िन्दगी
    जरा आँखों से आँखें मिला कर तो देखें .......
    जीवन के अनगिनत रंगों से सजी प्रेरणात्‍मक अभिव्‍यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. नित घटती जाती साँसों से
    अपने लिए भी इक लम्हा चुरा कर देखें !

    ....बहुत सच कहा है..बहुत सुन्दर और सार्थक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिस दिन हम खुद के घर में महेमान बन गए ,उसी दिन से जीवन की सांझ शुरू हो जायेगी ,ऐसा मेरा मानना हैं .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sundar kabhi kuch alag kabhi kuch sirf apne liye bhi hina chahiye

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन को आनंद स्वरूप प्रस्तुत करें स्वयं के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इतनी तल्ख भी नहीं ज़िन्दगी
    जरा आँखों से आँखें मिला कर तो देखें ....
    सही कहा आपने ,बहुत सुंदर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह क्या बात है बहुत लिखा है आपने बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीने की राह सुझाती सोच ....उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. सूचनार्थ: ब्लॉग4वार्ता के पाठकों के लिए खुशखबरी है कि वार्ता का प्रकाशन नित्य प्रिंट मीडिया में भी किया जा रहा है, जिससे चिट्ठाकारों को अधिक पाठक उपलब्ध हो सकें। 

    उत्तर देंहटाएं
  13. जिन्दगी खूबसूरत है। वैसे किधर जाने का प्रोग्राम बन रहा है! :)

    उत्तर देंहटाएं