गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

इस सदी का सोलहवां साल ......



एक रस्मी रवायत की तरह ,आज और कल हम जाते हुए वर्ष की विदाई और आने वाले वर्ष का स्वागत करते हुए ,परस्पर बधाइयों का आदान - प्रदान करेंगे  .... पर क्या इस वर्ष भी हमको सिर्फ इतना ही करना चाहिए ,या कुछ और भी सोचना - समझना चाहिए  .... 
कल से इस सदी के सोलहवें वर्ष की शुरुआत होगी  .... सोलहवां साल - ये किसी के भी जीवन में एक विशेष स्थान रखता है  .... इससे जुडी यादें और जिम्मेदारियां हमारे जीवन में एक अलग सा ही स्थान संजोये रहती हैं  ... नामालूम सी बातों में भी एक जिम्मेदारी की अनुभूति होती है  ... शायद ये अपनेआप को और अपनी महत्ता जताने का तरीका रहता है  ... 
जब हमारे जीवन में सोलहवें साल का इतना महत्व है तो समय के ,इस सदी के लिए भी सोलहवां साल कुछ विशेष ही होना चाहिए  .... कुछ न कुछ सार्थक करने का प्रयास करें हम सब अपने - अपने स्तर पर  .... इस के लिए हमको अलग से कुछ नही करना है ,सिर्फ अपनी सोच को एक नया विस्तार देना है  .... लगभग हर कार्य पर  खुद अपने प्रति ही जवाबदेही निश्चित करनी होगी कि हमारे किसी भी कार्य का समाज पर क्या प्रभाव पड़ेगा  .... 
व्यक्तिगत स्तर पर हम अपना आकलन करें कि हमको जैसा समाज मिला था ,हमने उसको समृद्ध करने में  योगदानस्वरूप क्या किया  ..... और कुछ न भी कर पाएं तब भी कम से कम इतना तो कर ही लें कि अपने बच्चों और उनकी सोच को इतना परिष्कृत कर दें कि वो अपनी सकारात्मक उपलब्द्धियों में हमसे कुछ कदम तो आगे बढ़ कर रखें  ......
बच्चों के लिए हम अपने घर को सबसे सुरक्षित स्थान बनाने का प्रयास करते हैं ,ऐसे ही समाज को इतना सुदृढ़ कर दें कि वो कहीं भी रहें और सुरक्षित रहें  ..... मोमबत्तियां जलाने या विरोध प्रदर्शन की नौबत ही न आने पाये  ....... 
बेटी और बेटे से आगे बढ़ कर हम "बच्चों"  के लिए सोचें  ..... 
आज बस यही कामना करती हूँ कि परमशक्ति हमारे विचारों और कार्यक्षमता में सोलहवें वर्ष का उत्साह , साहस और जिजिवषा भर दें जिससे जब हम अगले वर्ष नए वर्ष की प्रतीक्षा करें ,तब सुखद स्मृतियों के साथ उर्ज्वित रहें  ..... निवेदिता 

6 टिप्‍पणियां:

  1. सकारात्मक लेख। धन्यवाद। नववर्ष की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (02-01-2016) को "2016 की मेरी पहली चर्चा" (चर्चा अंक-2209) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    नववर्ष 2016 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. सचमुच...सार्थक लेख है निवेदिता. सबकी कोशिश खुद को देखने/सुधारने की होनी ही चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सारगर्भित और सार्थक आलेख..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सारगर्भित और सार्थक आलेख..

    उत्तर देंहटाएं