रविवार, 27 दिसंबर 2015

27 / 12 / 15



                                             मुंदी पलकों तले
                                                   कुछ सपने पले थे
                                                           मुस्कराये - सकुचाये
                                                                ठिठके - अलसाये से

                                             पलके खोले बैठी
                                                   राह तकती लखती हूँ
                                                           उन्हीं अलबेले  सपनों के
                                                                      बस  सच हो जाने की
                                                                              ....... निवेदिता 


10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 28 दिसम्बर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह सपनों के पूरा होने की पहली शर्त तो सपने देखना ही है ..बहुत ही सुन्दर सरल और सहज ..आनंदम आनंदम

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूबसूरत अहसास और उनकी सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर शब्द रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. पलकों में सपनों का पलना भी एक सच है ।
    अच्छी पंक्तियां ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद प्रभावशाली रचना......बहुत बहुत बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं