मंगलवार, 27 नवंबर 2012

ये ज़िन्दगी ......


ये ज़िन्दगी
शुक्रगुजार है
अब तक
आती जाती
हर इक
सहमी और
खिली खिली
श्वांस लेती
हर श्वांस की !

ये ज़िन्दगी
कर्ज़दार  है
उन दुलार भरी
तोतली बोली की
जिनसे मिश्री
घुलती गयी
तीखे पलों में !

ये ज़िन्दगी
बेबस है
उन चुभती
तीखे काँटे सी
अनावृत्त करती
आवाजों और
निगाहों के
उच्छिष्ट पर !


ये ज़िन्दगी
शर्मसार है
हर उस
अनबोले पल की
जिसका दर्द
दूसरे ने
अनकिया सा
हो भुगता है !


13 टिप्‍पणियां:

  1. भावमय करते शब्‍द ... बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर रंग हर एहसास जिंदगी में आता ही है....
    हमें उसके हिसाब से जीते जाना हैं...
    सुन्दर भाव ...

    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब ज़िंदगी के रंग हैं ..... गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर रंग ....सब रंग से भारा ये जीवन ...
    भावप्रबल अभियक्ति ....!!
    शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन है, हर रंग उसी का है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक जिंदगी ऐसी भी ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितने रंग दिखाता जीवन,
    कुछ लाता, ले जाता जीवन।

    उत्तर देंहटाएं