शनिवार, 17 नवंबर 2012

एक अन्धेरा एहसास .....



अमावस 
क्यों डरा जाता है 
ये अकेला सा एहसास 
इसमें अंधियारा ही तो नहीं 
कहीं रह जाते कुछ एहसास 
आने वाली उजली किरणों के 
पर हाँ ! जब तक ये रहता है 
सब ढांप लेता कालिख पुती 
अंधत्व की चादर में 
उजले से लगते लम्हे भी 
धुंधलाते कोहरे में छुपी 
ख़ामोश गहराइयों में 
गुम बेआवाज़ हो जाते हैं 
हर रोज़ मायूस चाँद 
अपनी रौशन चांदनी 
बढ़ा असफल सा खोजता 
निराश हो पूनम से 
अमावस के चिर सफ़र पर 
चल छोड़ जाता है फिर 
एक अन्धेरा एहसास 
अमावस का ...........
                  -निवेदिता 

20 टिप्‍पणियां:

  1. निराश हो पूनम से
    अमावस के चिर सफ़र पर
    चल छोड़ जाता है फिर
    एक अन्धेरा एहसास
    अमावस का,,,,,,,अहसासों की सुंदर प्रस्तुति,,,,

    recent post...: अपने साये में जीने दो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अंधेरा भी कुछ कहता है।

    बेहतरीन कविता।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. तमसो माँ ज्योतिर्गमय. अमावस की रात चाहे जितनी भी तमिस्रमय हो, सुबह की किरण को आने से नहीं रोक सकती.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण प्रस्तुति अँधेरे की चादर को चीर कर रौशनी आती है और सब गम हर लेती है जरूरत है विशवास की खिड़की खुली रखना

    उत्तर देंहटाएं
  6. gahra andhera roshani ki pahli kiran ke samaan hota hain

    nice poem

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है....सुन्दर कविता है निवेदिता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रविष्टि वाह!

    इसे भी अवश्य देखें!

    चर्चामंच पर एक पोस्ट का लिंक देने से कुछ फ़िरकापरस्तों नें समस्त चर्चाकारों के ऊपर मूढमति और न जाने क्या क्या होने का आरोप लगाकर वह लिंक हटवा दिया तथा अतिनिम्न कोटि की टिप्पणियों से नवाज़ा आदरणीय ग़ाफ़िल जी को हम उस आलेख का लिंक तथा उन तथाकथित हिन्दूवादियों की टिप्पणयों यहां पोस्ट कर रहे हैं आप सभी से अपेक्षा है कि उस लिंक को भी पढ़ें जिस पर इन्होंने विवाद पैदा किया और इनकी प्रतिक्रियायें भी पढ़ें फिर अपनी ईमानदार प्रतिक्रिया दें कि कौन क्या है? सादर -रविकर

    राणा तू इसकी रक्षा कर // यह सिंहासन अभिमानी है

    उत्तर देंहटाएं

  9. कल 19/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. चाँद दिनों दिन बढ़ता रहता, और पूर्णिमा आ जाती तब।

    उत्तर देंहटाएं
  11. aaj aakhri hi hai andheri ye ehsas karwa jata h amavas ka chand..! Kubsurt aur manovegyanik chitran.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये तो गोल चक्कर है...अँधेरा उजाला आना जाना है....
    सस्नेह
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  13. अमावस से ज्यादा अमावस का एहसास सताता है मगर कोई इसे समझ नहीं पाता है। पूनम के आने का आश्वासन भर दे जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन>>>>>>> poonam n hoti to ye amavas n hota---- हर रोज़ मायूस चाँद
    अपनी रौशन चांदनी
    बढ़ा असफल सा खोजता
    निराश हो पूनम से
    अमावस के चिर सफ़र पर
    चल छोड़ जाता है फिर
    एक अन्धेरा एहसास
    अमावस का ...........

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. गहन भाव लिए बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर रात की सुबहा ज़रूर होती है फिर चाहे वो अमावस की रात ही क्यूँ न हो मगर हाँ उसके बाद भी अंधेरा भी कभी-कभी बहुत कुछ कहता है। गहन भाव अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं