रविवार, 25 नवंबर 2012

एक सम्मन नक्षत्रों का .....


आज एक कागज़ 
अपना पता पूछते 
फिर से चला आया 
हाँ !मेरे ही हाथों में 
समेटे हुए अपने में 
चंद गिनतियाँ और 
नाम भी नक्षत्रों के 
लगा एक सम्मन सा 
क्यों ? 
अरे उसमें टंका था 
मेरे नाम का 
प्रथमाक्षर .....
वो समय .. वो तिथि 
जब ली थी मैंने 
अपनी पहली सांस !
पता नहीं क्यों 
पर वो अजनबी सा 
अनपहचाना ही 
रह गया ...
शायद वो जन्म का 
बस एक नन्हा सा 
लम्हा बना रह गया 
जन्म - कुंडली सा 
विस्तृत - विस्तार 
अभिनव - आयाम 
तो तब मिला 
जब आये तुम साथ !
                            -निवेदिता 


20 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुन्दर रचना
    सादर, अरुन शर्मा
    www.arunsblog.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. पल पल में जब सदी छिपी हों,
    उद्गम पाछे नदी रुकी हों।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूब!
    आपकी यह सुन्दर प्रविष्टि कल दिनांक 26-11-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ख़ूब!
    आपकी यह सुन्दर प्रविष्टि कल दिनांक 26-11-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ख़ूब!
    आपकी यह सुन्दर प्रविष्टि कल दिनांक 26-11-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. kya kahu? bas dil ko chu gayi puri rachna.....bilkul alag si alag si lagi...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही जगह पहुंची ,क्योंकि ये बस दिल की तो बात थी ..:)

      हटाएं
  7. एक लौ इस तरह क्यूँ बुझी ... मेरे मौला - ब्लॉग बुलेटिन 26/11 के शहीदों को नमन करते हुये लगाई गई आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर रचना।
    मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये का नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के " को भी एक बार अवश्य पढ़े । धन्यवाद
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह विस्तार भी शायद उस कागज में लिखा था :):)

    उत्तर देंहटाएं