शनिवार, 26 नवंबर 2011

"मोती के लाल "


अहा !
ये प्यारा पुनर्मिलन !
पलकों में छाई नमी ,
लबों पे खिलखिलाती
शबनमी यादें छायीं !
यूँ ही बस इक जरा सा
हाथ  बढ़ा तुम्हे थामा ,
सितारों सी टिमटिमाती
ओस की बूंदों सी पावन
फूलों से सुरभित दिन
अलमस्त अल्हड़ बातें !
विस्मृत करते सब अपने
वर्तमान ,मन मयूर सा
थिरक उठे ,जब किसी ने
छेड़ी पुरानी तान ......
अनायास गूँज जाने वाली
वो किसी की भी जयकार !
कभी बजरंगबली की जय
तो कभी बमबम ,लोटन ,
चीकू ,चौडू की पुकार .....
ज़रा सी निगाह फेरी देखा
गांधी ही नहीं बापू भी थे
वहीं सशरीर विराजमान !
गुंजन की गुनगुन में भी
टाइगर की पुकार थी
करते भी क्या थे तो ये सब
"मोती के  लाल "
इतनी ऊर्जा ,इतनी विशुद्ध
ऑक्सीजन कहीं और मिलना
दुर्लभ था ,इस धरा पर यूँ
अट्टहास साथ पलकों की नमी
और कहीं मिल पाना दुष्कर था !
                                   -निवेदिता          

18 टिप्‍पणियां:

  1. स्वर्णजयंती पर मिलना एक सुखद अनुभूति रही होगी ..सुन्दर प्रस्तुति करण

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी निवेदिता जी.
    'मोती के लाल' के बारे में कुछ बताएं.
    क्या यह 'मोती लाल इंजीरियरिंग कालिज,इलाहाबाद' तो नही?

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,नई पोस्ट जारी की है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीता जी ,अतुल जी ,राकेश कुमार जी ....धन्यवाद !
    राकेश कुमार जी ,आप ने बिलकुल सही पहचाना .... ये "मोती लाल नेहरु इंजीनियरिंग कालेज ,इलाहाबाद " ही है । मेरे हमसफ़र अमित जी वहीं के मोती हैं ..... ८६ बैच का रजत जयंती समारोह हुआ था वहीं की ये यादें हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. विश्व-प्रसिद्ध संगम-नगरी इलाहाबाद के MNNIT में,
    Alumni Meet 12-13 नवम्बर'11 का यह था...
    एक अनोखा संगम !
    चार-चाँद लगाया है "निवेदिता" भाभी ने.........
    बयाने अलफ़ाज़ में.......
    जो महसूस किया है अपनी जज़्बात में ---
    बोलो हर-हर भोले..........बम-बम !
    मस्त हुए सभी इस भाव में डूब कर.....
    ....उनकी भावनाओं के समंदर में,
    कैसी खूबसूरत है अंदाज़े-बयान !...
    देखो भैय्या उनके हम-दम - "बम-बम" !

    उत्तर देंहटाएं
  5. पुराने मित्रों से मिलना एक सुखद अनुभव है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. पुरानी यादों की बहुत सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर (हरिवंश राय बच्चन) आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. "मोती के लाल "
    इतनी ऊर्जा ,इतनी विशुद्ध
    ऑक्सीजन कहीं और मिलना
    दुर्लभ था ,इस धरा पर यूँ
    अट्टहास साथ पलकों की नमी
    और कहीं मिल पाना दुष्कर था !

    वाह ! यह मोती के लाल और आपकी कलम ने किया कमाल .....बस जगह मचा दी धमाल ....!

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतनी ऊर्जा ,इतनी विशुद्ध
    ऑक्सीजन कहीं और मिलना
    दुर्लभ था ,इस धरा पर यूँ
    अट्टहास साथ पलकों की नमी
    और कहीं मिल पाना दुष्कर था !
    यादों को सुन्दर सब्दों मैं पिरोया है खूबसूरत रचना -

    उत्तर देंहटाएं